बुरहान के हाथों शहीद होने वाले अफसर की बेटी ने वर्दी पहन जवानों को किया सैल्यूट

phpThumb_generated_thumbnail

नई दिल्ली। आतंकी बुरहान वानी से लड़ते हुए शहीद हुए कमाडिंग अफसर कर्नल एम एन राय को उनकी बेटी ने जनवरी 2015 को आखिरी सलामी दी थी। इसके डेढ़ साल बाद सिक्योरिटी फोर्सेस ने जब राय की जान लेने वाले आतंकी बुरहान को मार गिराया तो उसी बेटी ने पिता की वर्दी पहनकर जवानों को सैल्यूट किया। हिजबुल मुजाहिद्दीन के जिस आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर पर कश्मीर में बवाल हो रहा है, उसी ने पिछले साल 27 जनवरी को आर्मी की एक टुकड़ी को निशाना बनाया था।

बेटी ने दिया था नारा

राय के शहीद होने के बाद उनकी बेटी अलका ने रोते हुए उन्हें आखिरी विदाई दी थी। अब बुरहान के मारे जाने पर राय की उसी बेटी ने इंडियन फोर्सेज को सैल्यूट किया है। सोशल मीडिया पर पिता की वर्दी में उनकी फोटो वायरल हो रही है। उनकी दो बेटियां अलका, ऋचा तथा बेटा आदित्य है। आखिरी विदाई के समय अलका ने पिता को सैल्यूट किया था और नारा दिया था कि ‘होके के होई ना, होना ही परचा’ यानी ‘होगा कि नहीं होगा, होके ही रहेगा’। उस समय आर्मी चीफ जनरल दलबीर सिंह सुहाग व अन्य अफसरों ने भी दिल्ली कैंट इलाके के श्मशान घाट में रॉय को श्रद्धांजलि दी थी।

आतंकियों ने धोखो से मारा था

27 जनवरी को श्रीनगर से 36 किमी दूर मिंडोरा गांव में आतंकियों के मौजूद होने की खबर मिलने पर कर्नल राय अपनी टीम के साथ पहुंचे थे। उन्हें खबर मिली थी कि हिजबुल मुजाहिदीन का एक लोकल आतंकी अपने एक साथी के साथ वहां आया हुआ है। इलाके की घेराबंदी होने के बाद मारे गए आतंकियों में से एक के पिता और भाई राय के पास पहुंचे और दावा किया कि आतंकी सरेंडर करना चाहते हैं। लेकिन जब राय ने उन्हें ऐसा करने का मौका दिया तो आतंकियों ने घर से निकलते समय अंधाधुंध गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। इसके बाद आतंकी एनकाउंटर में मारे गए लेकिन राय और सिंह शहीद हो गए।

Courtesy: patrika.com

Categories: India

Related Articles