AAP ज्वाइन कर सकते हैं सिद्धू, पति ने राज्यसभा और पत्नी ने MLA पोस्ट से दिया इस्तीफा

AAP ज्वाइन कर सकते हैं सिद्धू, पति ने राज्यसभा और पत्नी ने MLA पोस्ट से दिया इस्तीफा

navjot_1468836872

नई दिल्ली. बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी राज्यसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने भी MLA पोस्ट छोड़ दी है। राज्यसभा प्रेसिडेंट ने नवजोत सिंह का इस्तीफा मंजूर कर लिया है। कहा जा रहा है कि दोनों आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर सकते हैं। बनाए जा सकते हैं AAP के सीएम कैंडिडेट…

– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नवजोत सिंह सिद्धू अगर आम आदमी पार्टी ज्वाइन करते हैं तो पार्टी उन्हें सीएम कैंडिडेट भी बना सकती है।

– 2014 लोकसभा चुनाव के में पार्टी ने अमृतसर सीट से सांसद सिद्धू का टिकट काट दिया। उनकी जगह अरुण जेटली को पार्टी कैंडिडेट बनाया गया।

– सिद्धू 10 साल से इस सीट से सांसद थे। पार्टी का यह दांव उलटा पड़ा। जेटली चुनाव हार गए।

– तब से ही सिद्धू पार्टी से नाराज बताए जा रहे थे।

– अगले साल होने वाले पंजाब विधानसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी ने उन्हें मनाने की कोशिश की।

– उन्हें राज्यसभा एमपी बनाना इसी की कवायद माना जा रहा था। लेकिन सांसद बनने के तीन महीने के भीतर ही उन्होंने पार्टी छोड़ दी।

अकाली गठबंधन के खिलाफ सिद्धू और उनकी पत्नी
– सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू पंजाब में बीजेपी विधायक हैं। नवजोत कौर लगातार बीजेपी की सहयोगी अकाली दल पर हमले करती रही हैं।
– कहा जा रहा है कि पति-पत्नी चाहते थे कि बीजेपी विधानसभा चुनावों में अकेले जाए और सिद्धू को बड़ी जिम्मेदारी दी जाए।
– नवजोत कौर हाल ही में पार्टी से एक इंटरव्यू के दौरान पार्टी से अलग होने के संकेत दे दिए थे।
– इस इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि अकाली और भाजपा तो मिलकर ही विधानसभा चुनाव लड़ेंगे, लेकिन मैं और सिद्धू प्रचार नहीं करेंगे।

– तभी से दोनों आम आदमी पार्टी के टच में बताए जा रहे हैं।

‘AAP’ को नया मौका बता चुकी हैं नवजोत
– पंजाब में अकाली-बीजेपी गठजोड़ बनाए रखने के एलान के सिद्धू की वाइफ डॉ. नवजोत कौर सिद्धू ने आप में जाने के संकेत दिए थे।
– डॉ. सिद्धू ने कहा था कि वे चाहती हैं कि पंजाब में बीजेपी को अकेले चुनाव लड़ना चाहिए। हालांकि, उन्होंने इसे अपनी निजी राय बताया था।
– उन्होंने आम आदमी पार्टी को लोगों के लिए एक मौका बताया था।
– फरवरी में दिए गए अपने बयान में उन्होंने यह नहीं बताया था कि वे चुनाव लड़ेंगी तो किस पार्टी से।
– नवजोत ने कहा था कि इसका खुलासा वे बाद में करेंगी।

पार्टी में नजरअंदाज किए जाने से भी दुखी थे सिद्धू

– लगातार 2004 से 2014 तक अमृतसर सीट से सांसद रहे सिद्धू पार्टी में नजरअंदाज किए जाने से भी दुखी थे।

– नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी के आने के बाद उनका कद लगातार घटा।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: Politics

Related Articles