सिर्फ 3 दिन में बन जाएगा आपका पैन कार्ड, 1 दिन में कॉरपोरट्स को होगा जारी

pan-card_1468902394
नई दिल्ली. अब सिर्फ 3 दिन के भीतर ही आपका पैन कार्ड बन जाएगा। कॉरपोरेट्स को यह सिर्फ 1 दिन में जारी हो जाएगा। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस और ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को टैक्‍स के दायरे में लाने की कोशिश के तहत सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स (सीबीडीटी) ने यह कदम उठाया है। ऐसे जल्‍द मिलेगा पैन कार्ड…

– सीबीडीटी के चेयरमैन अतुलेश जिंदल ने कहा कि कारोबारियों को अब एक दिन में टैन नंबर लेने में कोई दिक्कत नहीं आएगी।
– कारोबारी अब डिजिटल सिग्‍नेचर के जरिए टैन के लिए आवेदन कर सकते हैं।
– आम लोगों का पैन कार्ड आधार नंबर के जरिए तुरंत वेरिफाई कर लिया जाएगा, जिससे आम लोगों को यह सिर्फ 3 से 4 दिन के भीतर मिल जाएगा।
– अभी फिलहाल पैन कार्ड बनवाने में 15 से 20 दिन का समय लगता है।
– अब एनएसडीएल और यूटीआईएसएल की वेबसाइट पर पैन नंबर के लिए आवेदन देने पर उसे आधार नंबर के जरिए वेरिफाई किया जा सकेगा।
– ऐसा करने से समय की बचत होगी और आवेदकों को उनका पैन नंबर जल्द से जल्द मिल सकेगा।
फर्जी पैन कार्ड बनाना मुश्किल
– जिंदल के मुताबिक आधार और कंपनी मामलों के विभाग से आंकड़ों का मिलान करने से फर्जी पैन कार्ड बनवाने की कोशिशों पर लगाम लग सकेगी।
– देश भर के लाखों लोगों ने एक से ज्यादा पैन कार्ड बनवा रखे हैं। जिंदल ने बताया कि एक अभियान के तहत पूरे देश में अब तक में 11 लाख पैन कार्ड रद्द किए जा चुके हैं।
कागजी झंझट से मिलेगी मुक्ति
– सीबीडीटी के इस पहल से अब टैक्सपेयर्स डिजिटल सिग्नेचर का यूज करते हुए बिना किसी एनेक्चर के ही आपनी अप्लीकेशन फाइल कर सकेंगे।
– जिन लोगों के पास डिजिटल सिग्नेचर नहीं है वह आधार के ई-सिग्नेचर फैसेलिटी के जरिए अप्लाई कर सकते हैं।
अभी 15-20 दिन में बनता है पैन कार्ड
pan_1468908353
– अभी पैन कार्ड बनाने में 15-20 दिन का समय लगता है। यह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट इश्यू करता है।
– आप एनएसडीएल और यूटीआईएसएल की वेबसाइट पर पैन नंबर के लिए आवेदन कर सकते हैं।
– एप्‍लिकेशन के बाद 107 रुपए की फीस भरनी होती है।
– फीस भरने के बाद 15 दिन में आपका डाक्युमेंट्स वेरिफाई किया जाता है।
– वेरिफिकेशन में सब ठीक होने पर 15 से 20 दिन में आपके पते पर आपका पैन नंबर पहुंच जाता है।
किन कामों के लिए जरूरी होता है पैन नंबर
 income-tax_1468908361
– परमानेंट अकाउंट नंबर यानी पैन 10 डिजिट का एक अल्फान्यूमेरिक नंबर होता है।
– आप चाहे अपना ऐड्रेस बदलें, यहां तक कि एक राज्य से दूसरे राज्य में जाएं तो भी पैन नंबर वही रहता है।
– इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए पैन होना जरूरी है।
– इनकम टैक्सेबल नहीं है, तो पैन लेना अनिवार्य नहीं है। फिर भी बैंकिंग और दूसरी तरह के फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन के मामलों (जैसे: बैंक अकाउंट खोलना, प्रॉपर्टी बेचना-खरीदना, इन्वेस्टमेंट करना करना आदि) में पैन की जरूरत होती है।
पैन कार्ड गुम हो जाने पर क्या करें?
pan-card_1468908367
– अगर पैन कार्ड गुम गया है तो सबसे पहले आपको पुलिस के पास एफआईआर करानी होगी, क्योंकि इसकी सॉफ्ट कॉपी आपको वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी।
– इसके बाद पैन नंबर सहित सारी डिटेल्स देनी होगी। फॉर्म भरने के बाद लेफ्ट हैंड में बने किसी भी बॉक्स में टिक न करें।
– पैन कार्ड रि-इश्यू कराने के लिए आईडेंटिटी और ऐड्रेस प्रूफ के लिए डॉक्युमेंट्स अपलोड करना होगा।
– डॉक्युमेंट्स अपलोड करने के बाद कार्ड के लिए नेटबैंकिंग, डेबिट-क्रेडिट कार्ड की मदद से 107 रुपए का पेमेंट करना होगा।
– इसके 20 दिन के बाद नया पैन कार्ड आपके घर पर पहुंच जाएगा। पेमेंट करने के बाद एक एक्नॉलेजमेंट फॉर्म निकलेगा, जिसे कार्ड मिलने तक संभाल कर रखें।
सरकार के खाते में 1.24 लाख करोड़ रुपए जमा हुए
pan-card-new_1468902977
– सीबीडीटी ने डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन की जानकारी देते हुए कहा कि अप्रैल-जून क्वार्टर में डायरेक्ट टैक्स क्लेक्शन में 24.79 फीसदी की ग्रोथ आई है।
– इस दौरान सरकार के खाते में 1.24 लाख करोड़ रुपए की रकम जमा की गई है।
Courtesy: Bhaskar.com
Categories: Finance

Related Articles