दोस्त के ‘अवैध निर्माण’ को लेकर सचिन ने मांगी रक्षा मंत्री से मदद, पर्रिकर का दखल देने से परहेज

Sachin_Tendulkar_and_his_wife_at_Bloomberg_TV_Autocar_Awards

दिग्गज क्रिकेटर रहे सचिन तेंडुलकर ने मसूरी के लैंडोर में एक हॉलिडे स्पॉट को डिफेंस रिसर्च एंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO)के साथ सिक्यॉरिटी से जुड़े विवाद से बचाने के लिए रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से मदद मांगी है। बताया जा रहा है कि परिकर ने सचिन की बातों को ‘ध्यान से सुना’ लेकिन कोई दखल देने से परहेज किया है। इस प्रॉपर्टी में सचिन के बिजनस पार्टनर संजय नारंग की हिस्सेदारी है।

उस हॉलिडे स्पॉट पर सचिन अक्सर जाया करते हैं। मामले की जानकारी रखने वाले रक्षा मंत्रालय के सीनियर अधिकारियों ने इकनॉमिक टाइम्स को बताया कि राज्यसभा सांसद सचिन के लिए यह मामला इतना गंभीर था कि उन्होंने इसके लिए पिछले साल ऑस्ट्रेलिया की ट्रिप छोटी कर दी ताकि अपने अनुरोध के साथ पर्रिकर से मुलाकात कर सकें।

जिस प्रॉपर्टी की बात हो रही है, वह लैंडोर कैंट एरिया में डेलिया बैंक के पास है। बताया जा रहा है कि इस प्रॉपर्टी के निर्माण में इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी मैनेजमेंट के आसपास के 50 फुट के दायरे में कोई कंस्ट्रक्शन न होने के नियम का कथित तौर पर उल्लंघन हुआ है। यह इंस्टिट्यूट DRDO का है।

साउथ ब्लॉक के अधिकारियों ने ईटी को बताया कि रक्षा मंत्री DRDO की संवेदनशील लैब के परिसर के पास कथित अवैध निर्माण के मामले में दखल नहीं देना चाहते हैं।एक सीनियर अधिकारी ने ईटी को बताया, ‘सचिन मंत्री से मिलने की कोशिश कर रहे थे। फिर मुलाकात तय हुई। उन्होंने प्रॉपर्टी के बारे में विस्तार से अपनी बात कही, जो सुनी गई। हालांकि उस अनुरोध पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।’

सचिन ने इस मामले में ईटी के सवालों के जवाब नहीं दिए। रक्षा मंत्रालय ने इस मुद्दे पर औपचारिक टिप्पणी करने से मना कर दिया। इंस्टिट्यूट का कहना है कि नारंग ने संस्थान के आसपास के ‘प्रतिबंधित निर्माण क्षेत्र’ में टेनिस कोर्ट्स बनाने की इजाजत हासिल की थी, लेकिन इसके बजाय उन्होंने बिल्डिंग्स खड़ी कर दीं।

नारंग ने ईटी के सवालों के जवाब नहीं दिए, लेकिन उनकी प्रतिनिधि ने दावा किया कि संबंधित एरिया प्रतिबंधित क्षेत्र से बाहर है। उन्होंने आरोप लगाया कि DRDO के इंस्टिट्यूट ने इस मामले में ‘गलत रुख’ अपनाया है और उसने ‘गलत व्याख्याएं’ की हैं। होटल मालिक के पास कई प्रॉपर्टी लैंडोर कैंट एरिया में और उसके आसपास हैं। यह इलाका मसूरी के पास एक हाई-ऐंड टूरिस्ट डेस्टिनेशन के रूप में उभरा है। हालांकि निर्माण गतिविधियों को लेकर विवाद भी हो रहे हैं और पिछले महीने सीवीसीऔर सीबीआई के पास भी एक शिकायत पहुंची थी कि ‘अवैध तरीके से मोटे निवेश वाली कमर्शल गतिविधियां’ हो रही हैं।

(This story was first published in Navbharat Times)

Categories: Politics, Sports

Related Articles