यूपी चुनाव: बदले दौर में सवर्ण कार्ड खेलने की तैयारी में कांग्रेस, 10 फीसदी आरक्षण का दांव

यूपी चुनाव: बदले दौर में सवर्ण कार्ड खेलने की तैयारी में कांग्रेस, 10 फीसदी आरक्षण का दांव

 

rahul_146908332688_650x425_072116121239उत्तर प्रदेश की सियासत में ब्राह्मण और राजपूत के साथ मुस्लिम समीकरण पर दांव लगा रही कांग्रेस अब एक कदम और आगे बढ़ाने की तैयारी में हैं. सूत्रों के मुताबिक, अपने समीकरण के लिहाज से चेहरे चुनने के बाद अब पार्टी हर धर्म के पिछड़े सवर्णों को 10 फीसदी के लिए आरक्षण का प्रस्ताव रखने का मन बना रही है.

खास बात ये है कि, हर धर्म के जरिए गरीब मुस्लिमों को इसमें शामिल किया जायेगा. साफ है कि, कांग्रेस अपने समीकरण को हर कीमत पर मजबूत करना चाहती है.

राहुल और प्रियंका के सामने दिया ये प्रस्ताव
यूपी कांग्रेस की नयी टीम ने इस सिलसिले में राहुल और प्रियंका के सामने ये प्रस्ताव दिया, जिस पर दोनों ने सैद्धांतिक सहमति दे दी है. भविष्य में इसको पार्टी अपने घोषणापत्र में शामिल करेगी. पार्टी को लगता है कि, इसके जरिए वो हिन्दू और मुस्लिम वर्ग के सवर्ण नौजवानों को अपने पाले में खींच सकती है.

मसौदे पर हो रही माथापच्ची
पार्टी आलाकमान ने यूपी के नेताओं को दो टूक कहा है कि फिलहाल आरक्षण की जो व्यवस्था है, उससे किसी किस्म की छेड़छाड़ नहीं की जाएगी. गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण कैसे दिया जायेगा, इसका मसौदा भी सामने लाया जाये, जिससे जनता को भरोसा हो सके कि ये सिर्फ चुनावी वादा नहीं है.

कार्यकर्ताओं और जनता की राय भी ली जाएगी
पार्टी अपना घोषणापत्र कार्यकर्ताओं और जनता के विभिन्न वर्गों की राय लेकर ही बनाएगी. इसीलिए इस मामले में भी पार्टी कार्यकर्ताओं और जनता की राय लेकर ही घोषणापत्र में इसको डाला जाएगा.

बदले दौर में बदली कांग्रेस
2012 में यूपी के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने पिछड़े मुस्लिमों को आरक्षण का वादा किया था. पार्टी पर मुस्लिम तुष्टिकरण के तमाम आरोप भी लगे थे. चुनावी नतीजे आए तो पार्टी राज्य में धड़ाम हो गई. उसके बाद लोकसभा चुनाव की करारी हार की समीक्षा के लिए बनी एंटोनी कमिटी ने पार्टी की जनता के बीच बनी प्रो मुस्लिम छवि को जिम्मेदार माना था. इसीलिए अब पार्टी फूंक-फूंक कर कदम बढ़ा रही है. अपनी पुरानी छवि भी तोड़ने की कोशिश में अब वो ये नया शिगूफा लेकर आई है. आखिर 27 सालों से यूपी में सत्ता से दूर पार्टी छटपटाहट में हर वो कदम उठाने को तैयार है, जो उसके राज्य में सुनहरे दिन लौटा सके.

राहुल गांधी 29 को जाएंगे लखनऊ
पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी 29 जुलाई को लखनऊ जाकर कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे. इसके पहले पार्टी नेताओं की कई रैलियां राज्य के अलग-अलग हिस्सों में होंगी. फिलहाल अब तक प्रियंका गांधी के यूपी दौरे को लेकर कोई सूचना सामने नहीं आई है.

Courtesy: AajTak

Categories: Politics, Regional