‘तुम सबकी वर्दी उतरवा दूंगा… मैं बसपा मंत्री याकूब कुरैशी का बेटा हूं’

‘तुम सबकी वर्दी उतरवा दूंगा… मैं बसपा मंत्री याकूब कुरैशी का बेटा हूं’

supporters-of-firoz-quraishi_1469136393

अरे तुम जानते हो मैं कौन हूं…? तुम सबकी वर्दी उतरवा दूंगा… मैं बसपा मंत्री याकूब कुरैशी का बेटा हूं। नतीजा ठीक नहीं होगा। पूर्व मंत्री और बसपा प्रत्याशी याकूब कुरैशी के पुत्र फिरोज ने नशे में धुत होकर बेगमपुल पर सरेआम ट्रैफिक पुलिस को इस तरह धमकाया तो सिपाही एक बार को पीछे हट गए। लेकिन ट्रैफिक दरोगा बृजकिशोर ने जब आगे आकर फिरोज से सवाल-जवाब शुरू किए तो उसने बदसलूकी शुरू कर दी। गाड़ी भगाने पर कंट्रोल रूम से मेसेज फ्लैश होने पर घेराबंदी हुई तो कार्रवाई होते देर नहीं लगी।

बेगमपुल पर हुए इस बखेड़े के बाद ट्रैफिक पुलिस ने कंट्रोल रूम को सूचना दी कि काली इंडिवर में संदिग्ध युवक हैं जो एक्सीडेंट के बाद मारपीट करके भागे हैं। यह सूचना फ्लैश होते ही पुलिस गाड़ी की घेराबंदी में लग गई। पुलिस ने युवकों को इंडिवर से उतारने का प्रयास किया तो फिरोज ने पुलिस को फिर धमकी दी कि नतीजा ठीक नहीं होगा। नशे में धुत फिरोज के धमकी देने पर पुलिस का भी गुस्सा फूट गया और उसको पीटते हुए थाने ले आई।

टीएसआई बृजकिशोर त्यागी ने बताया कि ट्रैफिक सिपाही सुरेश कुमार जीरो माइल पर चौराहा संभाल रहा था। तभी इंडिवर गाड़ी ने एक स्कूटर को टक्कर मारी। हम वहां पहुंचे। इंडिवर की ड्राइवर साइड की खिड़की खोलकर बृजकिशोर बातचीत कर ही रहे थे कि फिरोज के एक साथी ने टीएसआई को धक्का दे दिया और गाड़ी लेकर बेगमपुल की तरफ भागे। इसके बाद टेंपो में टक्कर मारकर उसके ड्राइवर को पीटना शुरू कर दिया। पुलिस वहां भी पहुंची तो फिरोज ने खुद को बसपा के पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी का बेटा बताकर वर्दी उतरवाने की धमकी दी। उसके बाद उन्होंने कंट्रोल रूम में सूचना दे दी।

अरे कैमरा बंद कर ले

firoz-quraishi_1469136145

फिरोज और उसके साथियों को पुलिस लालकुर्ती थाने ले आई तो मीडियाकर्मी भी पहुंच गए। थाने में पुलिस के सामने फिरोज और उसके साथी मीडियाकर्मी को धमकी देने लगे कि अरे कैमरा बंद कर ले, नहीं तो इसे तोड़ देंगे।  नशे में धुत युवकों का मेडिकल परीक्षण लालकुर्ती पुलिस ने जिला अस्पताल में नहीं कराया। लोगों की भीड़ को देखते पुलिस उन्हें मेडिकल अस्पताल ले गई। युवकों को बंदी वाहन में ले जाया गया। डर था कि कोई हमला करके उनको जबरन छुड़ाकर न ले जाए। इस दौरान सरधना से बसपा प्रत्याशी याकूब के दूसरे बेटे इमरान समेत बसपा के कई नेताओं ने थाने पहुंचकर फिरोज की जमानत ली।

गौरतलब है कि करीब छह साल पूर्व याकूब कुरैशी ने सिपाही चहन सिंह को थप्पड़ मारा था। यह प्रकरण भी काफी चर्चित हुआ था। केस अभी कोर्ट में विचाराधीन है। अब याकूब के बेटे फिरोज ने बेगमपुल पर उत्पात मचाया तो पुलिस और लोगों में पुराने मामले को लेकर चर्चा शुरू हो गई।

पुलिस ने बताया कि इंडिवर गाड़ी चार दिन पहले ही खरीदी गई है। उत्तराखंड से उसका रजिस्ट्रेशन कराया गया है। गाड़ी फिरोज पुत्र अब्दुल कादिर कुरैशी निवासी देहरादून के नाम से है। पुलिस का कहना है कि गाड़ी फिरोज के नाम है तो उसके पिता का नाम गलत क्यों लिया है। हालांकि फिरोज इस पर चुप्पी साध गया। चर्चा है कि नई गाड़ी की दावत में चारों दोस्त गए थे।

Courtesy: Amarujala

Categories: Politics, Regional