बैंकों का व्यक्तियों पर 5160 करोड़ रु, कार्पोरेट्स पर 6120 करोड़ रु बकाया

बैंकों का व्यक्तियों पर 5160 करोड़ रु, कार्पोरेट्स पर 6120 करोड़ रु बकाया

banking-infusion-580x346

नई दिल्ली: विजय माल्या से जुड़े बैंकों के कर्ज विवाद के बीच सरकार ने आज बताया कि पिछले 4 सालों में लोगों पर सरकारी क्षेत्र के बैंकों का 5160 करोड़ रुपये जबकि निजी कारपोरेट क्षेत्र पर लगभग 6120 करोड़ रुपये बकाया है. लोकसभा में शिव कुमार उदासी के प्रश्न के लिखित उत्तर में आज वित्तराज्य मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने यह जानकारी दी. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, 2012 से 2015 के बीच 4 साल के दौरान सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों का औद्योगिक क्षेत्र पर 7729 करोड़ रुपये बकाया है.

वित्त राज्य मंत्री द्वारा दिये गये जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों के हवाले से बताया गया है कि 2012 में सरकारी क्षेत्र के बैंकों का व्यक्तियों पर करीब 862 करोड़ रुपये, 2013 में 1390 करोड़ रुपये, 2014 में 1436 करोड़ रुपये और 2015 में 1471 करोड़ रुपये बकाया रहा. इसी प्रकार से, 2012 में सरकारी क्षेत्र के बैंकों का औद्योगिक क्षेत्र पर करीब 1580 करोड़ रुपये, 2013 में 1842 करोड़ रुपये, 2014 में करीब 2096 करोड़ रुपये तथा 2015 में करीब 2210 करोड़ रुपये बकाया रहा.

2012 में सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों का निजी कारपोरेट क्षेत्र पर करीब 1251 करोड़ रुपये, 2013 में करीब 1374 करोड़ रुपये, 2014 में 1638 करोड़ रुपये और 2015 में 1852 करोड़ रुपये बकाया था. गंगवार ने कहा कि सरकार ने अधिक गैर निष्पादित आस्तियों वाले अवसंरचना :विद्युत, सड़क आदि:, इस्पात, वस्त्र जैसे क्षेत्रों की समस्याओं के समाधान के लिए विशिष्ट उपाये किये हैं.

उन्होंने कहा कि सरकार ने बैंकिंग क्षेत्र के अशोध्य रिणों की वसूली में तेजी लाने के लिए मौजूदा 33 रिण वसूली अधिकरणों के अलावा 6 नये डीआरटी स्थापित करने को भी मंजूरी प्रदान कर दी है

Courtesy: ABPNews

Categories: Finance, India

Related Articles