भारतीय कर्मचारियों के लिए गूगल का देसी रेस्तरां ‘बादल’

भारतीय कर्मचारियों के लिए गूगल का देसी रेस्तरां ‘बादल’

food

विदेशों में रहने वाले भारतीयों की सबसे बड़ी चिंता यह होती है कि देसी जायके का लुत्फ कहां उठाया जाए। हर जगह के कल्चर और खानपान में फर्क होता है, इसलिए लोगों को शुरू में दिक्कत होती है। अमेरिका की सिलिकन वैली में काम करने वाले भारतीयों को खुश रखने के लिए कंपनियां बहुत कुछ करती हैं। गूगल इस मामले में सबसे आगे है, क्योंकि सभी कर्मचारियों के लिए खाना न सिर्फ फ्री है, बल्कि तरह-तरह का खाना वहां पर मिलता है।

भारतीय कर्मचारियों के लिए कितना शानदार इंतजाम किया गया है।

baadal

कैलिफोर्निया में गूगल के हेडक्वॉर्टर्स में बहुत सारे फूड जॉइंट्स हैं, जिनमें ‘बादल’ नाम का भारतीय रेस्तरां भई है। बादल नाम का यह रेस्ट्रॉट पिछले साल ही खुला है। दरअसल कर्मचारी भारतीय रेस्तरां खोलने की मांग लंबे समय से कर रहे थे। यह गूगल कैंपस का पहला सिट-इन जॉइंट भी है, जहां पर बैठकर खाना खाया जा सकता है। आगे देखें, क्या खासियत है इस रेस्तरां की…
Indian-colors
यह रेस्तरां पूरी तरह भारतीय रंग में रंगा है। चारों तरफ बॉलिवुड के पोस्टर, भारत के झंडे और नक्शे लगाए गए हैं।
इनके पास बादल राइस नाम से स्पेशल चावल की आइटम भी है, जिसमें सोना मसूरी चावल, ब्राउन राइस और भूटानी लाल चावल का कॉम्बिनेशन होता है। यहां पर स्वादिष्ट टिक्का भी मिलता है और साउथ-इंडियन थाली भी। मिठाइयों का तो कहना ही क्या।
rice
इस रेस्तरां का मेन्यु हर दिन चेंज होता है, मगर मसाला चाय और चिकन बिरयानी लोगों को बहुत पसंद है। भारतीय ही नहीं, अन्य कर्मचारी भी यहां आकर व्यंजनों का लुत्फ उठाना पसंद करते है।
Biryani
यही नहीं, इनके पास एक और स्पेशल मील प्लान है। इस मील प्लान का नाम है- ब्राह्मण। यह खाना उन लोगों के लिए बनाया जाता है, जिन्हें सात्विक भोजना चाहिए। यह पूर्ण रूप से शाकाहारी होता है।
Brahmin
इसके अलावा रेस्ट्रॉन्ट के बाहर एक ट्रक भी खड़ा रहता है, ताकि तुरंत खाना लेने की सुविधा हो। इस ट्रक का नाम ‘बिजली’ रखा गया है। अगर इस ट्रक के आगे मिठाइयों के लिए छोटी सी गाड़ी और खड़ी कर दी जाए तो उसका नाम ‘बारिश’ रखा जा सकता है। बादल, बिजली और बारिश का सही कॉम्बिनेशन बन जाएगा।
Bijali (1)
Courtesy:NBT
Categories: Culture, International