AN 32 का रहस्य गहराया, लापता विमान की तलाश में अब सेटेलाइट भी लगी

AN-32

वायुसेना के लापता हुए विमान का सुराग पता लगाने के लिए अब सैटेलाइट की मदद ली जा रही है. भारतीय नौसेना की रूकमणी सैटेलाइट ने इमेजैरी-तस्वीरें भेजनी शुरू कर दी हैं. लेकिन अभी तक वायुसेना के एएन-32 विमान का कोई अता पता नहीं चला है. विमान में कुल 29 लोग सवार थे. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर खुद लापता हुए विमान के सर्च एंड रेस्क्यू ऑपरेशन की मोनिटेरिंग कर रहे हैं.

AN-32_Rescue

सूत्रों के मुताबिक, रूकमणी उपग्रह ने समंदर मे तैर रहीं कुछ चीजों की तस्वीरें भेजी थी. उस जगह युद्धपोत और टोही विमानों को भेजा गया, लेकिन वहां कुछ नहीं मिला. जानकारी के मुताबिक, आज से एक और सैटेलाइट को लापता विमान का पता लगाने के लिए लगाया जायेगा.

AN-32_Rescue5

ये सैटेलाइट भी स्वदेशी है. बताते चलें कि लापता हुए विमान की सर्च के लिए नौसेना और कोस्टगार्ड के 17 जहाज दिन रात बंगाल की खाड़ी में चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर के बीच जुटे हुए हैं.

AN-32_Rescue2

नौसेना की एक पनडुब्बी भी समंदर के नीचे विमान को तलाश कर रही है. जिस जगह प्लेन लापता हुआ वहां समंदर करीब 3500 मीटर गहरा है. इसके अलावा वायुसेना, नौसेना और कोस्टगार्ड के 16 (सोलह) टोही विमान भी लापता हुए एएन प्लेन की तलाश कर रहे हैं. AN-32_Rescue3

इस बीच वायुसेना ने तमिलनाडु पुलिस के जरिए गायब हुए विमान की गुमशुदगी रिपोर्ट दर्ज कराई है.तमिलनाडु के सेलाइयुर थाने में ये एफआईआर दुर्घटना एवंम हादसों की धाराओं के साथ एयरक्राफ्ट एक्ट 1934 के तहत दर्ज कराई गई है.

AN-32_Rescue4

वायुसेना के शिकायकर्ता अधिकारी ने एफआईआर में लिखवाया है कि लापता विमान ने 22 जुलाई की “सुबह 9.05 मिनट पर एटीसी से (खराब) मौसम के चलते अपने हवाई-मार्ग से दांई दिशा मे जाने की इजाजत मांगी थी. लेकिन 9.13 मिनट के बाद विमान रडार (कवर) से बाहर हो गया. तब से विमान से कोई संपर्क नहीं हो पाया है. वायुसेना का एएन-32 विमान एक कोरियर-प्लेन था जो सशस्त्र सेनाओं के 23 अधिकारियों और जवानों के लेकर चेन्नई के ताबरम एयरबेस से पोर्ट ब्लेयर जा रहा था.

AN-32_Rescue1

विमान के यात्रियों में वायुसेना की एक महिला अधिकारी भी शामिल थीं. विमान के यात्रियों में वायुसेना की एक महिला अधिकारी भी मौजूद थीं. अंडमान निकोबार में सेना की पहली (और अकेली) ट्राई-सर्विस कमांड है. जिसमें तीनों सेनाओं (थलसेना, वायुसेना और नौसेना) के अधिकारी संयुक्त रूप से तैनात होते हैं. विमान में पायलट और को-पायलट सहित कुल 06 क्रू-मेम्बर थे.

Courtesy: ABPNews

Categories: India

Related Articles