अफगानिस्‍तान के राष्‍ट्रपति बोले- अल कायदा से रिश्‍ते आसान लेकिन पाक से नहीं, भारत से दोस्‍ती पर गर्व

अफगानिस्‍तान के राष्‍ट्रपति बोले- अल कायदा से रिश्‍ते आसान लेकिन पाक से नहीं, भारत से दोस्‍ती पर गर्व

ashraf-ghani-620x400

अफगानिस्‍तान के राष्‍ट्रपति अशरफ गनी ने शनिवार को कहा कि उनके देश के लिए पाकिस्‍तान से रिश्‍ते बनाना मुश्किल है जबकि अल कायदा और ता‍लिबान से रिश्‍ते बनाना आसान है। पाकिस्‍तानी न्‍यूज चैनल जियो न्‍यूज को दिए इंटरव्यू में गनी ने आरोप लगाया कि पाकिस्‍तान आतंकियों को संरक्षण मुहैया कराता है और उन्‍हें ट्रेनिंग देता है। देश के लिए पाकिस्‍तान से रिश्‍ते बनाना सबसे बड़ी चुनौती है। अफगान राष्‍ट्रपति ने कहा, ”हम समझ नहीं पा रहे हैं कि जब पाकिस्‍तान कहता है कि वह आतंकियों को उसके संविधान, आर्मी एक्‍ट को बदलने नहीं देंगे और उनके खिलाफ नेशनल एक्‍शन प्‍लान बनाएंगे। लेकिन साथ ही साथ अफगानिस्‍तान में तबाही, डर और मौत फैलाने वाले एक अन्‍य ग्रुप को सहारा दिया जाता है।”

गनी ने दावा किया कि वे तालिबान नेताओं के पते दे सकते हैं जो क्‍वेटा में रहते हैं। अफगान सेनाओं ने तहरीक एक तालिबान पाकिस्‍तान के मुखिया मुल्‍ला फजलुल्‍लाह के ठिकाने पर 11 बार बमबारी की थी। उन्‍होंने कहा, ”क्‍या आप मुझे बता सकते हैं कि हक्‍कानी नेटवर्क पर कितने हमले हुए। मुल्‍ला उमर, मुल्‍ला मंसूर पर कितने हमले हुए। मंसूर पाकिस्‍तान के पासपोर्ट पर कराची से बाहर जाते हैं। क्‍या फजलुल्‍लाह काबुल से बाहर अफगान पासपोर्ट पर यात्रा करता है।” उन्‍होंने आरोप लगाया कि अफगानिस्‍तान में घायल हुए आतंकियों का पाकिस्‍तान में खुलेआम इलाज किया जाता है। अफगान आतंकी इस्‍लामाबाद में बैठकें करते हैं।

अशरफ गनी ने तालिबान के सरगना मुल्‍ला उमर के मारे जाने की जानकारी लीक करने के आरोप पर कहा कि यह जानकारी तालिबान ने लीक की थी। इस खबर के लीक होने के बाद हमने 19 सूत्रों से इसे कंफर्म किया। भारत के साथ दोस्‍ती पर उन्‍होंने कहा कि इस रिश्‍ते पर अफगानिस्‍तान गर्व करता है। गनी ने कहा, ”भारत की अफगानिस्‍तान से दोस्‍ती ऐतिहासिक रही है। अफगानिस्‍तान में भारत बांध बना रहा है। यह लोकतांत्रिक देश है और हमारे लोकतांत्रिक सपनों को साझा करता है।

Courtesy: Jansatta

Categories: India, International, Politics