मिंत्रा बनी देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन फैशन कंपनी, Jabong को खरीदा

मिंत्रा बनी देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन फैशन कंपनी, Jabong को खरीदा

myntra_1469509925

नई दि‍ल्‍ली. फ्लि‍पकार्ट की ऑनलाइन फैशन रि‍टेलर मिंत्रा ने अपनी कॉम्‍पि‍टीटर जबॉन्‍ग को खरीद लि‍या है। सूत्रों के मुताबि‍क, दोनों कंपनि‍यों के बीच डील को लेकर साइन हो गए हैं। इससे पहले जबॉन्‍ग को खरीदने के लि‍ए फ्यूचर ग्रुप, स्‍नैपडील, आदि‍त्‍य बि‍ड़ला की Abof समेत कई कंपनि‍यों के साथ बातचीत चल रही थी। अभी इस डील से जुड़ी फाइनेंशि‍यल डि‍टेल का खुलासा नहीं कि‍या गया है। क्‍यों बि‍की जबॉन्‍ग?

– जबॉन्‍ग की सेल्‍स में गि‍रावट आ रही थी और मैनेजमेंट में तेजी से बदलाव देखा जा रहा था।

– पि‍छले एक साल से जबॉन्‍ग को नुकसान उठाना पड़ा है।

– बीते साल जबॉन्‍ग के को-फाउंडर अरुण चंद्रन मोहन और प्रवीण सि‍न्‍हा ने कंपनी छोड़ दी।

– जबॉन्‍ग के ओनर ने संजीव मोहंती को कंपनी का नया सीईओ बनाया।

कि‍तनी बड़ी है जबॉन्‍ग?

– जबॉन्‍ग की शुरुआत जर्मन इन्‍क्‍यूबेटर रॉकेट इंटरनेट के बैनर तले 2012 में हुई थी।
– इस कंपनी में स्‍वीडन की इन्‍वेस्‍टमेंट कंपनी कि‍ननेवि‍क की भी बड़ी हि‍स्‍सेदारी है।

– जबॉन्‍ग के पास 1,500 से ज्‍यादा इंटरनेशनल हाई-स्‍ट्रीट ब्रांड्स, स्‍पोर्ट्स लैबल और इंडि‍यन डि‍जाइन लैबल हैं।

– कंपनी के पास 1.50 लाख से ज्‍यादा स्‍टाइल्‍स को बेचने वाले एक हजार से ज्‍यादा सेलर्स हैं।

– जबॉन्‍ग का रेवेन्‍यू 2016 के पहले क्‍वार्टर में 14 फीसदी बढ़कर 243.78 करोड़ रुपए हो गया था।

डील का क्‍या होगा इम्‍पैक्‍ट?

– इस डील के बाद फ्लि‍पकार्ट की मिंत्रा देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन फैशन कंपनी बन जाएगी।

– इससे अमेजन, स्‍नैपडील और आदि‍त्‍य बि‍ड़ला की Abof समेत कई छोटी फैशन कंपनि‍यों को कड़ा मुकाबला मि‍लेगा।

जबॉन्‍ग का जीएमवी 8.4 फीसदी बढ़ा

– जबॉन्‍ग की ग्रॉस मर्चेंडाइज वैल्‍यू (जीएमवी) 2016 के पहले क्‍वार्टर में 410.54 करोड़ हो गई।

– 2015 के पहले क्‍वार्टर में यह आंकड़ा 378.38 करोड़ रुपए था।

– कंपनी की जीएमवी सालाना आधार पर 8.4 फीसदी बढ़ गई है।

फ्लिपकार्ट ने Myntra को 2014 में खरीदा था

2014 में फ्लिपकार्ट ने Myntra को करीब 300 मिलियन डॉलर (2 हजार 20 करोड़ रुपए) में खरीदा था। उस समय यह भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स डील थी।

भारत में ई-कॉमर्स इंडस्ट्री

– भारत में ई-कॉमर्स इंडस्ट्री 2015 में 2300 करोड़ डॉलर (1 लाख 55 हजार करोड़ रुपए) की थी।
– एसोचैम का अनुमान है कि 2016 में यह 66% बढ़त के साथ 38 अरब डॉलर (2 लाख 56 हजार करोड़ रुपए) पर पहुंच सकती है।

फ्यूचर ग्रुप को पहले भी मि‍ला था मौका

– एक रि‍पोर्ट के मुताबि‍क, रॉकेट इंटरनेट ने ऑनलाइन फर्नीचर सेलर फैबफर्नि‍श को कि‍शोर बि‍याणी के फ्यूचर ग्रुप को बेचा था।

– फ्यूचर ग्रुप ने फैबफर्नि‍श को अप्रैल में करीब 15 करोड़ रुपए में खरीदा था।

– उस वक्‍त फ्यूचर ग्रुप को जबॉन्‍ग को खरीदने का मौका भी मि‍ला था, तब फ्यूचर ग्रुप ने जबॉन्‍ग को खरीदने से मना कर दि‍या था।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: Finance, India

Related Articles