50,000 में धर्म परिवर्तन करवा रहा था जाकिर नाईक का फाउंडेशन !

zakir-naik-1-580x386

नई दिल्ली: जाकिर नाईक पर धर्मांतरण के आरोपों में नया खुलासा हुआ है. जाकिर नाईक की संस्था इस्लामिल रिसर्च फाउंडेशन पचास हजार रुपये कैश देकर धर्म परिवर्तन करवाती थी.

इतना ही नहीं जाकिर का फाउंडेशन धर्मांतरण के एक बड़े अड्डे के रूप में काम कर रहा था. जाकिर नाईक के फाउंडेशन पर 800 लोगों के धर्म परिवर्तन करवाने का आरोप लगा है.

आरोप है कि जाकिर के करीबी आर्शी कुरैशी और रिजवान मिल कर धर्मान्तरण का काम करते थे. पुलिस सूत्रों के मुताबिक ज़ाकिर नाईक के भाषणों से प्रभावित लोग जब आईआरएफ से धर्म परिवर्तन के लिए संपर्क करते थे. उस वक्त आर्शी कुरैशी उन्हें मुंबई बुलाता था. रिजवान उन्हें मुंबई से पहले पनवेल स्टेशन पर उतार लेता था.

रिजवान मौलवी की तरह काम करता था. उनके ठहरने-खाने-पीने का इंतजाम करता था. साथ ही उनकी शादी और धर्मान्तरण से जुड़े कागज़ातों के इंतजाम का जिम्मा भी रिजवान पर था. इसके बाद रिजवान इस पूरे काम का बिल आर्शी को भेज देता था. आर्शी जाकिर नाईक के फाउंडेशन से पमेंट करवाता था.

इसके साथ ही एक और बड़ा खुलासा हुआ है कि धर्मांतरण के लिए जाकिर नाईक के फाउंडेशन को सऊदी अरब से फंडिंग होती थी. पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि क्या धर्मान्तरण के बाद इनलोगों को आईएस में शामिल होने सीरिया भेजा जाता था.

इन लोगों पर केरल की एक महिला मरियम का धर्म परिवर्तन करवाकर आईएसआईएस के लिए सीरिया भेजने का आरोप है.

Courtesy: ABPNews

Categories: Crime, India

Related Articles