जानिए, मैग्सेसे अवॉर्ड के लिए चुने के लिए बेजवाडा और कृष्णा के बारे में 10 बातें

जानिए, मैग्सेसे अवॉर्ड के लिए चुने के लिए बेजवाडा और कृष्णा के बारे में 10 बातें

collage_650_072716022229

भारत के बेजवाडा विल्सन और टीएम कृष्णा इस साल के रमन मैग्सेसे अवॉर्ड के लिए चुने गए हैं. बेजवाडा सामाजिक कार्यकर्ता हैं तो कृष्णा को शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए यह पुरस्कार दिया जा रहा है. बेजवाडा और कृष्णा के अलावा चार और लोगों को इस अवॉर्ड के लिए चुना गया है.

जानिए, इन दो हस्तियों के बारे में-

1) 50 साल के विल्सन का जन्म कर्नाटक में एक दलित परिवार में हुआ. उनका परिवार कोलार गोल्ड फील्ड्स में सिर पर मैला ढोने का काम करता था. स्कूल में इनके साथ अछूतों की तरह व्यवहार हुआ तो इन्हें बेहद गुस्सा आया और उन्होंने दलितों की हालत सुधारने की ठान ली.

2) विल्सन अपने परिवार के पहले ऐसे सदस्य हैं जिन्होंने उच्च शिक्षा हासिल की. इन्होंने दलितों की हालत में सुधार और मानव जीवन में गरिमा स्थापित करने के लिए आंदोलन शुरू किया.

3) बेजवाडा का सफाई कर्मचारी आंदोलन इस वक्त बड़ा रूप ले चुका है और इसके देशव्यापी नेटवर्क में 500 जिलों में करीब 7000 सदस्य हैं. सफाई कर्मचारी आंदोलन के राष्ट्रीय संयोजक बेजवाडा इस आंदोलन से पिछले 32 साल से जुड़े हैं.

4) सफाई कर्मचारियों के हक में आवाज बुलंद करने वाले बेजवाडा को लोगों को एकजुट करने में महारत हासिल है. इनका मानना है कि सिर पर मैला ढोने की प्रथा भारत में मानवता पर धब्बा है और यह पूरी तरह बंद होनी चाहिए.

5) यह बेजवाडा के आंदोलन का ही नतीजा है कि देश में मैला उठाने वाले छह लाख लोगों में से अब तक करीब तीन लाख को इस काम से मुक्त करा लिया गया है.

6) 40 साल के तोडूर मादाबुसी कृष्णा का जन्म चेन्नई के एक ब्राह्म्ण परिवार में हुआ था. छह साल की उम्र से ही उन्होंने कर्नाटक संगीत की तालीम लेनी शुरू कर दी थी.

7) कृष्णा ने इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन किया है लेकिन उनकी दिलचस्पी संगीत के क्षेत्र में थी. वो जल्द ही कर्नाटक शास्त्रीय संगीत के मशहूर कॉन्सर्ट परफॉर्मर के रूप में मशहूर हो गए.

8) कृष्णा का मानना है कि कला पर किसी खास वर्ग का हक नहीं होना चाहिए और समाज के सभी तबके तक इसकी पहुंच होनी चाहिए. ये ऐसे इवेंट्स में हिस्सा लेने से मना कर देते थे जहां टिकट वालों की ही बतौर श्रोता एंट्री होती थी.

9) दिवंगत एस श्रीनिवास अय्यर के शि‍ष्य कृष्णा नब्बे के दशक में शास्त्रीय संगीत के यूथ एसोसिएशन के अध्यक्ष रहे. इस तरह ये कर्नाटक संगीत को युवाओं और पब्लिक स्कूलों तक ले गए. इन्होंने A Southern Music – The Karnatic Story शीर्षक से एक किताब भी लिखी है.

10) 2011-2013 के दौरान कृष्णा अपनी कला को युद्ध की मार झेल रहे उत्तरी श्रीलंका ले गए. ऐसा करने वाले कृष्णा पहले कर्नाटक संगीतकार बने. इन्होंने श्रीलंका में इस संगीत को प्रमोट करने के लिए दो महोत्सवों का आयोजन भी किया.

 Courtesy: AAjtak
×
Categories: Culture, India, International

Related Articles