बद्रीनाथ में फंसे मेरठ के 1000 श्रद्धालु

01_08_2016-31mrt933-c-2

मेरठ : बद्रीनाथ गए मेरठ के श्रद्धालुओं पर आफत का पहाड़ टूट पड़ा है। पिछले पांच दिनों से रास्ता बंद है। उनके पास खाने के लिए पैसे भी नहीं बचे हैं। एटीएम और इंटरनेट सेवा भी तीन दिनों से बंद है। उधर, उत्तराखंड प्रशासन से कोई ठोस मदद नहीं मिलने से श्रद्धालुओं की परेशानी काफी बढ़ गई हैं। फंसे श्रद्धालु खुद रास्ता बनाने में जुटे हैं।

मेरठ के ट्रांसपोर्टर नगर के गुप्ता कालोनी से 25 जुलाई को सात युवकों का दल केदारनाथ और बद्रीनाथ के दर्शनों के लिए निकला था। केदारनाथ के दर्शन के बाद 27 जुलाई को ये बद्रीनाथ पहुंचे, लेकिन बद्रीनाथ पहुंचते ही उन पर आफत टूट पड़ी। तेज बारिश के कारण हनुमान सिद्धि के पास पहाड़ खिसकने लगे और चट्टानों ने सड़क घेर ली। लौटने का रास्ता बंद हो गया। बद्रीनाथ में फंसे श्रद्धालु गुप्ता कालोनी निवासी अंकुर प्रजापति ने फोन पर बताया कि बद्रीनाथ में करीब 4000 श्रद्धालु फंसे हुए हैं। इनमें अकेले मेरठ के श्रद्धालुओं की संख्या लगभग 1000 है। अंकुर के साथ फंसे गोलू शर्मा, मोनू चौधरी, कमल, प्रदीप कुमार, अजय शर्मा, विक्की आदि ने बताया कि हालत बदतर है। रास्ते बंद हैं और जेब भी खाली हो चुकी है। एटीएम और इंटरनेट सेवा बाधित होने से अधिक परेशानी हो रही है। पैसे नहीं होने से भरपेट भोजन भी नहीं मिल रहा है।

खुद बना रहे हैं रास्ता

दैनिक जागरण से फोन पर हुई बातचीत में श्रद्धालुओं ने बताया कि पिछले पांच दिनों से कोई सरकारी मदद नहीं मिली है। श्रद्धालु मिलकर खुद ही हनुमान सिद्धि के पास का रास्ता साफ कर रहे हैं। दिनभर रास्ते से पत्थर हटाते हैं और शाम को पंजाब सिंध बद्रीनाथ धर्मशाला में जाकर सो जाते हैं। वहां हो रही बारिश और सर्दी से कई श्रद्धालु बीमार भी हो गए हैं।

आसपास के जिलों के भी फंसे हैं श्रद्धालु

बद्रीनाथ में फंसे श्रद्धालुओं में मेरठ मंडल के अधिक है। इनमें मेरठ के टीपीनगर, ब्रह्मापुरी, महादेव पुरम, मोदीपुरम, शास्त्रीनगर, गंगानगर, जागृति विहार आदि के साथ देहात क्षेत्र के भी हैं। पड़ोसी जिले बागपत, गाजियाबाद और हापुड़ के भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु बद्रीनाथ में फंसे हुए हैं।

परेशान हुए परिजन

बद्रीनाथ गए युवकों के परिजन भी काफी परेशान है। गुप्ता कालोनी निवासी युवकों के परिजनों ने रविवार की शाम कालोनी में प्रदर्शन करते हुए प्रशासन से फंसे युवकों की मदद की मांग की। परिजन ओमपाल शर्मा, चंद्र किरन शर्मा, सुबोध कुमार, इंद्रपाल, विपिन, सचिन प्रजापति, अशोक कुमार, हरिप्रकाश आदि ने बताया कि सोमवार को डीएम और एसएसपी से मिलकर मदद की गुहार लगाई जाएगी।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Regional