यूपी से मायावती का सफाया होने के बाद ही चैन से बैठूंगा, बोले स्वामी प्रसाद मौर्या

यूपी से मायावती का सफाया होने के बाद ही चैन से बैठूंगा, बोले स्वामी प्रसाद मौर्या

phpThumb_generated_thumbnail

शुक्रवार को गोरखपुर पहुंचे पूर्व काबीना मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या ने मायावती पर जमकर हमला बोला। स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि जब तक मायावती का यूपी से सूपड़ा साफ नहीं हो जाता, तब तक वो चैन से नहीं बैठेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि मेरे इस्तीफे के बाद से ही बसपा पार्टी तीसरे स्थान पर चली गई है, अगर कांग्रेस मजबूत होती है तो बसपा की स्थान चौथा होगा।

अचानक बसपा को छोड़कर सबको चौंकाने वाले स्वामी प्रसाद मौर्या ने फिलहाल किसी भी दल में जाने का फैसला नहीं किये जाने की बात दोहरा कर बीजेपी में शामिल होने की अटकलों को विराम लगा दिया है। मौर्या ने बीजेपी में शामिल होने की खबरों को अफवाह बताते हुए इसका ठीकरा मीडिया पर ही फोड़ा।

उन्होंने कहा कि मीडिया के लोग कभी सपा ज्‍वाइन कराते हैं, कभी नितीश की पार्टी ज्‍वाइन कराते हैं और कभी भाजपा में शामिल कराते हैं। लेकिन सच यह है कि किसी भी दल में जाने का निर्णय नहीं लिया। जब निर्णय लूंगा तो सबको बताऊंगा।

शुक्रवार को स्वामी प्रसाद मौर्या गोरखपुर में थे।

गोरखपुर क्‍लब में आयोजित लोक तांत्रिक बहुजन मंच के प्रथम मंडलीय सम्‍मलेन में शिरकत करने आये मौर्या ने बातचीत में कहा जब तक मायावती का उत्‍तर प्रदेश से सूपडा साफ नहीं कर देंगे, चैन से नहीं बैठेंगे। उन्होंने कहा कि मेरे इस्‍तीफा देने के साथ ही बसपा तीसरे पायदान पर चली गई है। यदि कांग्रेस तेज़ होगी तो बसपा चौथे पायदान पर भी जा सकती है। उन्‍होंने कहा कि मायावती को सरकार बनाने और विधायकों को जिताने की चिंता नहीं बल्‍िक थैली वालों को टिकट देकर करोडों अरबों रुपये बटोरने की है।

परिवारवाद का लगे आरोपों को ख़ारिज करते हुए उन्होंने बसपा नेताओं पर ही निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सतीश मिश्र के परिवार के लोगों को 25 लालबत्ती बांटी गई, क्‍या ये परिवारवाद नहीं है। नसीमुद्दीन सिद्दीकी कैबिनेट में मंत्री और उनकी पत्‍नी विधानपरिषद सदस्‍य और बेटा लोक सभा का चुनाव लड़ा, क्‍या ये परिवारवाद नहीं है।

उन्‍होंने कहा कि बसपा छोडने के बाद उनसे दो दर्जन विधायक और नेता उनके संपर्क में है। मेरे अंतिम निर्णय लेते ही वह हमारे साथ खड़े होंगे। अपराधियों और माफियाओं को बसपा का टिकट देने पर उन्‍होंने कहा कि टिकटों की नी‍लामी होगी और पैसों का बाजार चलेगा तो स्‍वाभाविक रूप से थैली वाले व्‍यापारी और अपराधी-माफिया टिकट पाएंगे।

मौर्या ने कहा कि मायावती के पैसे की हवस के चलते यह सब कुछ हो रहा है। 2017 विधानसभा चुनाव में बसपा का सूपड़ा साफ हो जाएगा। यदि मायावती जी अपनी आदत में सुधार नहीं लातीं तो उत्‍तर प्रदेश से इनका बोरिया-बिस्‍तर बंध जाएगा और जब तक उनको मैं पैदल नहीं कर देता तब तक चैन से नहीं बैठूंगा।

Courtesy: Patrika.com

Categories: Politics, Regional

Related Articles