गौरक्षा की बात करने वाले इसे सड़क पर ना छोड़े: नीतीश कुमार

गौरक्षा की बात करने वाले इसे सड़क पर ना छोड़े: नीतीश कुमार

Nitish-Kumar-580x391

कानपुर: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी का एजेंडा लेकर उत्तर प्रदेश चुनाव लड़ने की बात करते हुए आज यहां कहा कि गाय और नीलगाय की रक्षा की बात करने वाले इसे सड़क पर ना छोड़े. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कानपुर से करीब 70 किलोमीटर दूर घाटमपुर में जनता दल यू के कार्यकर्ता सम्मेलन में भाग लेने आये थे.

इसके बाद उन्होंने एक सभा में कहा, ‘राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ गाय और नील गाय की रक्षा की बात करता है. अगर गाय और नील गाय से इतनी ही सहानुभूति रखते हैं तो उन्हें संघ (आरएसएस) और बीजेपी के नेता अपनी शाखाओं में रखें. इन्हें सड़कों पर न छोड़े जिससे यह परेशानी का कारण बने.’

उन्होंने दावा किया, ‘संघ और बीजेपी एक सिक्के के दो पहलू हैं. बीजेपी, संघ का ही एक चेहरा है. जदयू कार्यकर्ताओं को चाहिये कि वह भारतीय जनता पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के जूते की फोटो ले और उन्हें दिखाकर पूछे कि वह किस चमड़े के जूते पहने है. गाय के नाम पर बीजेपी और संघ देश का माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे है. इसलिये हम चाहते है कि संघ मुक्त देश बने.’

उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से कहा कि वह प्रदेश में शराब बंदी पूरी तरह से लागू करें. प्रदेश का विधानसभा चुनाव तो जदयू रिहर्सल के तौर पर लड़ रही है, हमारा मकसद यहां अपना आधार मजबूत करना है. उत्तर प्रदेश में हमारी लडाई समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी से नहीं बल्कि भारतीय जनता पार्टी से है. हमारी नजर 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव पर है जिसमें हम मजबूती से उतरेंगे और बीजेपी का मुकाबला करेंगे.

नीतीश ने कहा कि आजकल सोशल मीडिया का भी दुरूपयोग सांप्रदायिक शक्तियां कर रही है..ऐसी सांप्रदायिक शक्तियों की साजिशों से देश और प्रदेश को बचाना है और सोशल मीडिया के भड़काने वाली बातों से बचना है.

उन्होंने कहा कि बिहार में शराबबंदी के बाद जो शराब के आदी थे वह भी सुधर गये है और अब सरकार के इस कदम की तारीफ कर रहे है. बिहार में हमारी सरकार ने पीढ़ियों के भविष्य को संभालने का काम किया है और अब हर कोई हमारी सरकार के इस काम का सहयोग कर रहा है.

उन्होंने बिहार में विपक्षी बीजेपी पर हमला करते हुये कहा कि पहले तो बीजेपी शराबबंदी का समर्थन करती थी लेकिन अब जब भी शराबबंदी पर कोई कानून हम विधानसभा में लाते है तो बीजेपी सहयोग नहीं करती.

Courtesy: ABP News

Categories: Politics, Regional