प्रधानमंत्री कार्यालय ने सार्वजनिक की अपने अधिकारियों की सैलरी

msid-53596961,width-400,resizemode-4,pmo

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने अपने सभी अधिकारियों-कर्मचारियों की सैलरी सार्वजनिक कर दी है। पीएमओ ने राइट टु इन्फर्मेशन के तहत खुद की पहल पर यह खुलासा किया है।

प्रधानमंत्री के सेक्रटरी और 1983 बैच के आईएएस ऑफिसर भास्कर खुल्बे पीएमओ के सबसे ज्यादा वेतन पाने वाले अधिकारी हैं। उनकी सैलरी 2.01 लाख रुपये है। खुल्बे को पिछले सप्ताह ही प्रधानमंत्री का सचिव बनाया गया है। इससे पहले वह अतिरिक्त सचिव की जिम्मेदारी निभा रहे थे।

पीएमओ के तीन अन्य टॉप अधिकारियों में पीएम के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा, अतिरिक्त प्रधान सचिव पी. के. मिश्रा और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल को 1,62,500 रुपये की मंथली सैलरी मिलती है। इनकी सैलरी इसलिए बराबर है क्योंकि ये तीनों रिटायर्ड सिविल सर्वेंट्स हैं।

प्रधानमंत्री कार्यालय के जनसम्पर्क अधिकारी को हर महीने 99,434 रुपये मिलते हैं। वहीं, पीएम के एक पुराने सहयोगी जे. एम. ठक्कर को भी 99,434 रुपये की ही पेंशन मिलती है। पीएमओ में पोस्टेड इन्फर्मेशन ऑफिसर शरत चंदर को 1.26 लाख रुपये की सैलरी मिलती है।

पीएमओ के खुलासे के मुताबिक, संयुक्त सचिवों में तरुण बजाज को सबसे ज्यादा 1,77,750 रुपये मिलते हैं जबकि अनुराग जैन की सैलरी 1,76,250 रुपये और ए.के. शर्मा की 1,73,250 रुपये है।

मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्री रहते वक्त भी पीएमओ ने अपने अधिकारियों की सैलरी सार्वजनिक की थी।साल 2012 में सिंह के सलाहकार टी.के.ए. नायर, तत्कालीन राष्ट्रीय सुरक्षा सालहकार शिव शंकर मेनन , तत्कालीन विशेष प्रतिनिधि एस.के. लांबा और पीएम के तत्कालीन प्रधान सचिव पुलॉक चटर्जी को हर महीने 1.61 लाख रुपये मिलते थे जिसमें 1.11 लाख रुपये की सैलरी और 50,000 रुपये की पेंशन होती थी।

Courtesy: NBT
Categories: Finance, India, Politics

Related Articles