पीएम मोदी के गोरक्षकों पर दिए बयान का RSS ने किया खुलकर समर्थन

पीएम मोदी के गोरक्षकों पर दिए बयान का RSS ने किया खुलकर समर्थन

09_08_2016-rssjoshi

नई दिल्ली: गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी और दलितों के दमन के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीखी प्रतिक्रिया का लगातार दूसरे दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने खुलकर समर्थन किया है। संघ ने देश में दलितों पर हमले की घटनाओं की कड़ी निंदा करते हुए सरकारों से ऐसे लोगों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की अपील की। जबकि हिंदुत्ववादी संगठन हिंदू महासभा ने पीएम मोदी के गोरक्षकों पर दिए बयान से नाराज होकर उन्हें कानूनी नोटिस भेज दिया है।

सर संघचालक मोहन भागवत के बाद दूसरे स्थान पर संघ के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने सोमवार को फिर अपनी बात दोहराते हुए कहा कि दलितों का उत्पीड़न करने के लिए कानून हाथ में लेना न सिर्फ गैरकानूनी है बल्कि अमानवीय भी है। उन्होंने उन तत्वों को भी चेताया जो सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने और आपसी विश्वास तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

जोशी ने कहा, ‘हम समाज के सभी तबकों से अपील करते हैं कि वह उन तत्वों से सावधान रहें जो सांप्रदायिक सद्भाव के माहौल और विश्वास को बिगाड़ना चाहते हैं। वह उम्मीद करते हैं कि प्रशासन ऐसे तत्वों और संगठनों के खिलाफ जल्द कदम उठाएगा जो कानून तोड़ते हैं।’ उल्लेखनीय है कि जोशी ने रविवार को भी दलितों के खिलाफ हिंसा पर सख्त संदेश दिया था। वहीं, संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने भी लोगों से असामाजिक तत्वों के बहकावे में आने से बचने की अपील की।

उन्होंने कहा कि गोरक्षा के नाम पर कुछ असामाजिक तत्व कानून को अपने हाथ में ले रहे हैं। ऐसे लोग हिंदू धर्म को बदनाम कर रहे हैं। भारत कृषि प्रधान देश है और गाय हमेशा से उसकी मुख्यधारा में है। इस बीच, अखिल भारतीय हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणी ने कहा कि मोदी के मुताबिक गाय की रक्षा करने वाले 70-80 फीसद से अधिक लोग अराजक तत्व होते हैं। मैंने उनसे पूछा है कि वह अपने बयान को स्पष्ट करके बताएं कि उनके पास इसे साबित करने के क्या सुबूत हैं।

पीएम के इस बयान से गोरक्षकों के लिए बड़ा धक्का हैं क्योंकि अब समाज में उन्हें खलनायक के तौर पर देखा जाएगा। अब गाय की तस्करी करने वालों को बढ़ावा मिलेगा और गोरक्षकों पर और आक्रामक हमले होंगे। इसीतरह, अखिल भारत हिंदू महासभा के अध्यक्ष चंद्र प्रकाश कौशिक ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान से हिंदू समुदाय को ठेस पहुंची है, इसलिए उन्हें अपना बयान वापस लेना चाहिए।

Courtesy: Jagran.com

Categories: India, Politics

Related Articles