MS Dhoni trailer: कौन हैं वे तीन खिलाड़ी जिनको टीम में जगह नहीं देना चाहते थे धोनी?

ms-dhoni-the-untold-story-trailer

वनडे और टी20 कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी की जिंदगी पर बनी फिल्‍म MS Dhoni का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। ट्रेलर की जमकर तारीफ हो रही है। फिल्‍म में इंडियन रेलवेज में टिकट कलेक्‍टर की नौकरी करने वाले माही का वर्ल्‍ड चैंपियन टीम के कप्‍तान बनने तक के सफर के बारे में बताया गया है। एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत ने धोनी का किरदार निभाया है। यह फिल्‍म 30 सितंबर को रिलीज होगी।

फिल्‍म के ट्रेलर में धोनी के छोटे शहर से क्रिकेट की दुनिया में शीर्ष पर पहुंचने तक का सफर सिमटा हुआ है। ट्रेलर के आखिर में एक दृश्‍य है, जिसमें धोनी टीम सिलेक्‍टर्स के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए बात करते नजर आते हैं। इसमें वे कहते नजर आते हैं कि ये तीनों अब ओडीआई टीम में फिट नहीं बैठते। इस पर एक सिलेक्‍टर कहता है कि जो धोनी को प्रमोट करता है, धोनी आज उसी को बाहर करना चाहता है। एक अन्‍य सिलेक्‍टर कहता है कि यह इन तीनों को निकालकर यहीं पर रुकने वाला नहीं है। इस पर धोनी कहते हैं, हम सभी नौकर हैं और हम सब नेशनल ड्यूटी कर रहे हैं।

ट्रेलर में इस बात का जिक्र नहीं है कि वे तीन प्‍लेयर कौन हैं जिन्‍हें माही टीम में नहीं लेना चाहते थे। धोनी अपने पूरे करियर में किसी बड़े विवाद से दूर रहे हैं। हालांकि, अपने गैर पारंपरिक फैसलों और खिलाडि़यों के सिलेक्‍शन को लेकर आलोचक उन पर निशाना साधते रहे हैं। आलोचकों का मानना है कि बार बार नाकाम होने वाले कई क्रिकेटरों को धोनी बतौर कप्‍तान लगातार मौके देते रहे। क्रिकेट से जुड़े लोग मानते हैं कि ऐसे ही धोनी की कप्‍तानी में राहुल द्रविड़ और सौरभ गांगुली का न चुना जाना विवादों में रहा। गांगुली की अगुआई में ही धोनी ने इंटरनेशनल मैच में डेब्‍यू किया, वहीं द्रविड़ की कप्‍तानी में धोनी का खेल उभरकर सामने आया और वे मैच विनर बने। गांगुली को 2008 में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में टीम से बाहर रखा गया जबकि द्रविड़ को भी जगह नहीं मिली थी। गांगुली को फिर कभी वनडे में जगह नहीं मिली और उन्‍होंने 2008 के आखिर तक इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया। वहीं, द्रविड़ ने इसके बाद चंद वनडे मैच खेले और उन्‍होंने भी वनडे से 2011 में संन्‍यास ले लिया। धोनी पर वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और सचिन तेंडुलकर को भी टीम में जगह न देने का आरोप लगता रहा है। यह वो वक्‍त था जब टीम प्रबंधन ने सीनियर्स के लिए रोटेशन पॉलिसी लागू की थी। हालांकि, वीरेंद्र सहवाग यह साफ कर चुके हैं कि टीम इंडिया से उनके बाहर होने में धोनी का कोई हाथ नहीं है।

Categories: Entertainment

Related Articles