नगला फतेला गाँव में बिजली मामले में शर्मसार हुई मोदी सरकार, पीयूष गोयल ने जवाब से हुआ साफ़ – काम कांग्रेस के समय ही शुरू हो गया था, भाजपा दो साल में नहीं कर पाई पूरा

नगला फतेला गाँव में बिजली मामले में शर्मसार हुई  मोदी सरकार, पीयूष गोयल ने जवाब से हुआ साफ़ – काम कांग्रेस के समय ही शुरू हो गया था, भाजपा दो साल में नहीं कर पाई पूरा

Modi-Speech-mainप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लाल किले के प्राचीर से दिए भाषण के पर सवालों का सिलसिला लगातार जारी है। जिसमें एक नया सवाल मोदी सरकार से जुड़ गया है।आजादी की 70वीं वर्षगांठ पर लाल किले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तकरीबन 90 मिनट तक भाषण दिया। सरकार की उपलब्धियों के बारे में बात करते हुए, पीएम ने उत्‍तर प्रदेश के हाथरस के गांव नगला फतेला का जिक्र किया था।

जिसमें उन्होंने कहा था कि हाथरस में 3 घंटे में पहुंच सकते हैं, लेकिन हाथरस के गांव नगला फतेला में बिजली आजादी के 70 साल बाद पहुंची है। जिसके साथ ही प्रधानमंत्री दफ्तर की ओर से नगला फतेला गांव के लोगों के टीवी पर पीएम का भाषण देखने की तस्‍वीरें भी PMO Page पर जारी की गई थी। और साथ ही कैप्शन दिया था कि नगला फतेला गांव के लोग पहली बार स्वतंत्रता दिवस समारोह देख रहे हैं।ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने भी देश के सामने गलत जानकारी पेश कर स्वतंत्रता दिवस पर अपने एक ट्वीट में दावा किया है कि नगला फतेला तक बिजली पहुंच गई है।

 

ग्रामीण विद्युतीकरण के तहत केंद्र ने 2013 में बिजली पहुचाने की मंजूरी दे दी। इसके बाद फरवरी 2015 में दक्षिणाचाल विद्युत निगम ने एक बार फिर केंद्र को लिखा की नगला फतेला गांव में बिजली नहीं पहुंची है।

केंद्र फ़ौरन इनके लिए राशि जारी कर दी। इसके बाद 30 अक्टूबर 2015 को यूपी सरकार ने बताया कि नगला फतेला में बिजली पहुंच गई है। प्रदेश सरकार ने उस कंपनी का नाम भी बताया, जिसने बिजली पहुंचाई थी।

केंद्रीय बिजली मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि प्रदेश सरकार को बताना चाहिए कि अगर नंगला फतेला में बिजली पहुंच गयी थी तो दोबारा बिजलीकरण के लिए प्रस्ताव क्यों भेजा, इसलिए मंत्रालय ने दक्षिणाचाल विद्युत वितरण निगम को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

 

Courtesy:JKR & Hindusta

Categories: India, Politics

Related Articles