जीएसटी लागू होने से छोटा हो जाएगा बजट

जीएसटी लागू होने से छोटा हो जाएगा बजट

msid-53767561,width-400,resizemode-4,1

नई दिल्ली
घरेलू बाजार को बढ़ावा देने और अलग-अलग स्तरों पर लगने वाले टैक्स से छुटकारा दिलाने के लिए लाए गए गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स (GST) के लागू होने से बजट की कॉपी छोटी हो जाएगी। विशेषज्ञों का मानना है कि जीएसटी लागू होने के बाद बजट का पार्ट बी काफी छोटा हो जाएगा।

डायरेक्ट टैक्स कोड (DTC) की घोषणा होने के बाद बजट का आकार और छोटा हो जाएगा। उम्मीद है कि 2018-19 के बजट में जीएसटी का प्रभाव दिखाई देगा। पूर्व व्यय सचिव धीरेंद्र स्वरूप ने बताया, ‘टैक्स की दरों वाला बजट का दूसरा भाग 50 फीसदी कम हो जाएगा। इसमें केवल डायरेक्ट टैक्स के बारे में ही लिखा जाएगा।’

उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि DTC का स्वरूप क्या होगा। जीएसटी की दरों की सिफारिश पहले जीएसटी काउंसिल करेगी। इसके बाद संसद इसे फिक्स करेगी, क्योंकि संविधान के अनुसार कर निर्धारित करने की शक्ति संसद के पास है।’ उन्होंने कहा कि हो सकता है जीएसटी के दरें दो या तीन साल के लिए फिक्स की जाएं और यह बजट में बताया जा सकता है। स्वरूप ने कहा, ‘अब छोटी सामग्रियों का अलग-अलग रेट नहीं निर्धारित करना पड़ेगा इसलिए बजट का दूसरा भाग छोटा हो जाएगा।’

आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव सी. एम. वासुदेव ने बाताया कि जीएसटी से बजट का महत्व नहीं कम होगा लेकिन इससे बजट की गोपनीयता कम हो जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार योजनागत और गैरयोजनागत व्यय को एक में मिलाना चाहती है। इससे भी बजट का स्वरूप बदलेगा। इसके अलावा रेलवे बजट को भी सामान्य बजट के साथ मिलाने के प्रयास हो रहे हैं।

 

Courtesy: NBT

Categories: Finance
Tags: Budget, Economy, GST, India