मनी लॉन्ड्रिंग में माल्या पर होगा एक्शन, ED ने CBI से मांगी एफआईआर की कॉपी

मनी लॉन्ड्रिंग में माल्या पर होगा एक्शन, ED ने CBI से मांगी एफआईआर की कॉपी

vijaymallya1_1471592372

नई दिल्ली। चर्चित बिजनेसमैन और बैंकों के 9 हजार करोड़ रुपए के डिफॉल्टर विजय माल्या की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। इन्फोर्समेंट डिपार्टमेंट (ईडी) अब विजय माल्या लोन डिफाल्ट मामले में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता है। ईडी ने सीबीआई से माल्या के खिलाफ दर्ज कराई गई एफआईआर की कॉपी मांगी है, जिससे बैंक लोन केस में एक्शन लिया जा सके।

 

सीबीआई ने प्रिवेंसन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट मामले में शनिवार को माल्या के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। 13 अगस्त को सीबीआई ने यह कार्रवाई लोन डिफॉल्ट के मामले में की थी, जो स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) से संबंधित है। इस मामले में एसबीआई की तरफ से शिकायत की गई थी।

 

नए सिरे से होगी कार्रवाई

 

ईडी का कहना है कि एफआईआर की कॉपी मिलने के बाद माल्या के खिलाफ नए सिरे से कार्रवाई की जा सकेगी और बैंकों के 9 हजार करोड़ के कर्ज को लौटाने में मदद मिलेगी। एफआईआर की कॉपी मिलने के बाद ईडी नए सिरे से माल्या की प्रॉपर्टी की स्क्रूटनी भी कर सकती है, जिसकी नीलामी से जरूरी रकम जुटाई जा सके। इसके पहले भी ईडी माल्या की प्रॉपर्टी को नीलाम किए जाने की कोशिश की थी, लेकिन उचित खरीदार न मिलने की वजह से फंड जुटाने की ये कोशिश नाकाम रही थी।

 

 

माल्या की प्रॉपर्टी की होनी है नीलामी

 

माल्या के जिन असेट्स की नीलामी होनी है, उनमे किंगफिशर हाउस का हेडक्वार्टर, माल्या की निजी कारें, ऑफिस के फर्नीचर, पर्सनल जेट, बाथरोब, गोवा स्थित किंगफिशर विला और कई अन्य सामान शामिल हैं। इसके लिए दो बार कोशिश हो चुकी है। लेकिन, पहली कोशिश नाकाम होने के बाद दूसरी बार इन प्रॉपर्टीज का बेस प्राइस कम रखा गया। इसके बाद भी खरीदार नहीं मिले। यह नीलामी बैंकों को और टैक्स अथॉरिटी को करनी थी। किंगफिशर हाउस के लिए पहली बार बेस प्राइस 150 करोड़ और दूसरी बार 135 करोड़ रुपए रखा गया था।

 

कितने कर्जदार हैं माल्या?

 

– 31 जनवरी 2014 तक किंगफिशर एयरलाइन्स पर बैंकों का 6,963 करोड़ रुपए बकाया था। इस कर्ज पर इंटरेस्ट के बाद माल्या की टोटल लायबिलिटी 9,000 करोड़ रुपए की हो गई।
– किंगफिशर एयरलाइन्स अक्टूबर 2012 में बंद हो गई थी। दिसंबर 2014 में इसका फ्लाइंग परमिट भी कैंसल हो चुका है।

 

चार शहरों में 1411 करोड़की प्रॉपर्टी हुई थी अटैच

– ईडी ने इसके पहले माल्या की चार शहरों में 1,411 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी अटैच की थी।
– इस पर माल्या ने आरोप लगाया था कि सरकारी एजेंसियां मेरे खिलाफ बायस्ड होकर कार्रवाई कर रही हैं।

– ऐसी कार्रवाई का न तो कोई मतलब है और न ही कानूनी बेस है। बिना ट्रायल के मुझे दोषी बनाया जा रहा है।

 

Courtesy: Bhaskar.com
Categories: Finance, India

Related Articles