भारत की बेटियों ने बढ़ाया मान, बैडमिंटन में रजत पदक जीत सिंधु ने देश का दिल जीता, जानिए पूरी कहानी

भारत की बेटियों ने बढ़ाया मान, बैडमिंटन में रजत पदक जीत सिंधु ने देश का दिल जीता, जानिए पूरी कहानी

PVSindhu

रियो डि जेनेरो: रियो ओलिंपिक में आज का दिन भारत के लिए एक स्वर्णिम अवसर है। देश की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु गोल्ड मेडल जीतने एक कदम दूर हैं। सिंधु देश को गोल्ड दिलाने के लिए स्पेन की वर्ल्ड नंबर वन कैरोलिना मारिन से खेल रही हैं. पहला गेम सिंधु ने 21-19 से जीत लिया है। मारिन ने पलटवार करते हुए दूसरा सेट 21-12

पहले गेम का पहला अंक मारिन ने लिया, इसके बाद सिंधु ने दो अंक जुटाते हुए बढ़त बना ली। मारिन ने एक बार फिर सधा हुआ शॉट खेला और 4-3 से बढ़त बना ली। सिंधु ने लंबी रैली में भी गलतियां कीं, मारिन पहले 10 मिनट में सिंधु पर हावी नजर आईं।

एक समय स्कोर- 11-14 था इसके बाद मारिन ने बॉडी स्मैश के साथ बढ़त को 15-11 किया। सिंधु को 3 अंक और मिले, जबकि मारिन को एक अंक मिला।  इसके बाद सिंधु ने लगातर दो अंक लेकर बढ़त बना ली और पहला गेम जीत लिया।

दूसरे सेट में मारिन ने सिंधु को कोई मौक नहीं दिया और आसानी से 1-1 से बराबरी कर ली। दुसरे सेट की शुरुआत से ही मारिन ने बढ़त बना ली। सिंधु ने कुछ हिम्मत दिखाने की कोशिश की पर तब तक बहुत देर हो चुकी थी। मारिन ने दूसरा गेम 21-  12 से हरा दिया है।

तीसरे गेम में दोनों के बीच जोरदार टक्कर देखने को मिली। गेम की शुरुआत में मारिन ने 6-1 की बढ़त बना ली थी। उस समय ऐसा लग रहा था भारत के हाथ से गोल्ड आसानी से निकल रहा है पर सिंधु ने वापसी करते हुए स्कोर को 10-10 पर ले आईं। उसके बाद से ही एक बार फिर मारिन ने 13-10 की बढ़त बना ली। इस गेम में मारिन ज्यादा आक्रामक हो कर खेल रही थी।

फिर उसके बाद एक अंक सिंधु ने ले कर मारिन की बढ़त को कुछ कम करने की कोशिश की पर तभी मारिन ने 3 अंक लेकर फिर बढ़त बना ली। भारत की सिंधु ने फिर भी हिम्मत नहीं हारी औऱ स्कोर को 16-13 पर पहुंचा दिया। आखिरकार मारिन ने अपने अनुभव औऱ शानदार खेल से सिंधु को तीसरे गेम में 21-15से हरा कर उनका गोल्ड जीतने का सपना तोड़ दिया।

सिंधु को रखना होगा इन पर ध्यान

–मारिन को हराने के लिए सिंधु को कोर्ट पर चौतरफा खेल दिखाना होगा। साथ ही अपना रवैया काफी आक्रामक रखना होगा। मारिन का सबसे बड़ा हथियार उनकी आक्रामकता ही है।

–मारिन अपने विरोधी खिलाड़ी को कोर्ट के एक ही तरफ चिपका कर रखती है औऱ यही से वो उन पर बढ़त बनाना शुरु करती है। इसके लिए सिंधु को मारिन के खिलाफ कोर्ट के चारो तरफ खेलना पड़ेगा। साथ ही मारिन को अपने खिलाफ ज्यादा मौके नहीं देने की कोशिश करनी होगी।

–मारिन को बेसलाइन और मिड कोर्ट से भी दूर रखना होगा, क्योंकि मारिन इस जगह अपना सबसे खतरनाक खेल खेलती हैं।

–सिंधु को शतरंज खेलने वाले खिलाड़ी की तरह माना जाता है औऱ जिसका नमूना वे सेमीफाइनल में दिखा चुकी हैं।

Courtesy: Rajsthanpatrika

 

Categories: India, Sports

Related Articles