दलित वर्कर के घर खाना खाएंगे भागवत, बीजेपी की इमेज क्‍लीन करने की कोशिश?

दलित वर्कर के घर खाना खाएंगे भागवत, बीजेपी की इमेज क्‍लीन करने की कोशिश?

mohan_1471570618

आगरा.आरएसएस चीफ मोहन भागवत अपने पांच दिवसीय दौरे पर 20 अगस्त को आगरा जा रहे हैं। अपने इस दौरे के आखिरी दिन वह एक दलित कार्यकर्ता के घर दोपहर का खाना खाएंगे। बताया जा रहा है कि खाना बेहद साधारण होगा, क्‍योंकि भागवत हल्का और बिना तेल का खाना पसंद करते हैं। राजेंद्र चौधरी के घर पर खाएंगे खाना

– जानकारी के मुताबिक, भागवत आरएसएस के दलित कार्यकर्ता राजेंद्र चौधरी के घर खाना खाएंगे।
– राजेंद्र आगरा में जूते बनाने का एक कारखाना चलाते हैं।

– भागवत के इस फैसले को राजनीतिक कारणों से जोड़कर देखा जा रहा है।
– बता दें, ऊना में हुई घटना और दयाशंकर सिंह द्वारा मायावती के लिए आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल किए जाने के बाद बीजेपी खुद को दलितों से जोड़ने की हरसंभव कोशिश कर रही है, क्‍योंकि विपक्ष लगातार पार्टी पर दलित विरोधी होने का आरोप लगा रहा है।

राजनीति से प्रेरित नहीं यह फैसला

– संघ नेताओं का कहना है कि भागवत द्वारा दलित कार्यकर्ता के घर खाना खाने का फैसला राजनीति से प्रेरित नहीं है।
– गौरतलब है कि 31 जुलाई को अमित शाह की आगरा में प्रस्तावित रैली के लिए दलितों का समर्थन जुटाने में बीजेपी नाकाम रही थी।
– इसके बाद यह रैली आखिरी समय में रद्द करनी पड़ी। ऐसे में अब भागवत के इस कदम को बीजेपी की राजनीति के साथ जोड़कर देखा जा रहा है।

जाति व्यवस्था में यकीन नहीं रखती आरएसएस

– संघ के प्रांत प्रचारक प्रदीप ने भागवत द्वारा राजेंद्र के घर में खाना खाए जाने के कार्यक्रम की पुष्टि की।
– उन्होंने कहा कि इसके पीछे कोई राजनीतिक कारण नहीं है।
– राजेंद्र लंबे समय से संघ के साथ जुड़े रहे हैं। वह दलित हैं, लेकिन आरएसएस जाति व्यवस्था में यकीन नहीं रखती।
– वहीं, राजेंद्र ने बताया कि संघ उनके लिए परिवार की तरह है। उन्होंने भी इस कार्यक्रम के पीछे राजनीतिक कारण होने की बात से इनकार किया।
– बता दें, इसके पहले अमित शाह वाराणसी में और फिर लखनऊ में दलित के यहां भोजन कर चुके हैं।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: Politics, Regional

Related Articles