गाय के चमड़े से बने बैग के संदेह में ‘गौ रक्षकों’ का शिकार हुआ लड़का, ब्राह्मण होने के कारण बचा!

गाय के चमड़े से बने बैग के संदेह में ‘गौ रक्षकों’ का शिकार हुआ लड़का, ब्राह्मण होने के कारण बचा!

barun-kashyap-620x400

एक निजी कंपनी में क्रिएटिव निदेशक के पद पर कार्यरत कश्यप ने अपने फेसबुक पोस्ट पर बताया, ‘‘मैं आटो से काम पर जा रहा था। मेरे लंबे बालों और नाक में छेद देख कर ऑटो वाले को शुरू से ही मुझ पर संदेह हुआ और वह मुझे पूछताछ करने लगा। फिर उसने ट्रैफिक सिग्नल पर ऑटो रोका और मेरे चमड़े के थैले को देखने लगा।’’

असम निवासी कश्यप ने बताया कि फिर चालक ने उनका थैला छुआ और कहा कि यह गाय के चमड़े से बना है। कश्यप ने इससे इंकार किया और बताया कि यह थैला ऊंट के चमड़े बना है और उन्होंने इसे पुष्कर से खरीदा है। लेकिन जवाब से असंतुष्ट चालक ने कार्यालय जाने के रास्ते में पड़ने वाले एक मंदिर पर गाड़ी रोक दी। कश्यप के अनुसार ‘‘इससे पहले कि मैं कुछ कर पाता, चालक ने मंदिर के सामने धूम्रपान कर रहे तीन लोगों को इशारे से बुलाया। उनके आने पर सबने मराठी में बात की जो मैं नहीं समझ पाया। उन्होंने मुझे ऑटो से उतरने को कहा। मैंने मना किया। तभी उनमें से एक व्यक्ति ने मेरे थैले की जांच की। मेरा नाम पूछा गया और कश्यप सुन कर शायद उन्होंने मुझे ब्राह्मण समझा क्योंकि उनकी मराठी में हो रही बातचीत के दौरान मैं केवल ‘ब्राह्मण’ शब्द ही समझ पाया। फिर वह चले गए।’’

उन्होंने बताया कि अगले यातायात सिग्नल पर वह ऑटो से उतर गए, उसका नंबर नोट किया और ऑटो चालक का फोन नंबर मांगा। चालक ने नंबर देते हुए गर्व से कहा ‘‘आज तो बच गए।’’ कश्यप के मुताबिक, उन्होंने कल डी एन नगर पुलिस थाने में संदिग्ध गौरक्षकों :चालक और उसके तीन साथियों: के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। एक पुलिस अधिकारी ने बताया ‘‘शिकायतकर्ता को कोई शारीरिक नुकसान नहीं हुआ है इसलिए हमने गैर संज्ञेय अपराध दर्ज किया है। मामले की जांच की जा रही है।’’

Courtesy: Jansatta

Categories: India

Related Articles