92 साल में देश के लिए पहला सिल्वर जीतने वाली सिंधु का हैदराबाद में जोरदार वेलकम, मुंबई से मंगवाई गई डबल डेकर बस

92 साल में देश के लिए पहला सिल्वर जीतने वाली सिंधु का हैदराबाद में जोरदार वेलकम, मुंबई से मंगवाई गई डबल डेकर बस

sindhu_1471840961

हैदराबाद.रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली पीवी सिंधु सोमवार को यहां पहुंचींं। राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उनका जोरदार वेलकम हुआ। इस मौके पर उनके पिता पी वी रमन्ना, मां विजया और कोच पुलेला गोपीचंद समेत हजारों लोग मौजूद थे। उन्हें एक जुलूस के साथ गछिबोवली स्टेडियम ले जाया जा रहा, जहां तेलंगाना सरकार उन्हें सम्मानित करेगी। बता दें कि ओलिंपिक में सिंधु 92 साल में सिल्वर जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं। डबल डेकर बस को मुंबई से लाया गया…

– राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गछिबोवली स्टेडियम तक यह विजयी जुलूस निकाला जा रहा है। इसके बीच की दूरी करीब 32 किमी है।

– इस रूट पर लोग जगह-जगह उनके स्वागत के लिए खड़े देखे गए।

– जिस बस में सिंधु का विजय जुलूस निकाला गया, उसे मुंबई से हैदराबाद लाया गया है।

– तेलंगाना सरकार ने मुंबई की बीईएसटी से खुली बस की मांग की थी, जिसके बाद डबल डेकर बस दी गई। इसके साथ स्टाफ को भी भेजा गया है।

– तेलंगाना के आईटी मिनिस्टर केटी रामाराव के साथ दूसरे अफसर इस प्रोग्राम को लीड कर रहे हैं।

– बता दें कि तेलंगाना और आंध्र प्रदेश सरकार में सिंधु के वेलकम और पुरस्कार देने को लेकर होड़ सी लगी है। विजय जुलूस के दौरान दोनों सरकारों के मंत्री मौजूद रहे।

सिंधु को लेकर तेलंगाना और आंध्रा में लगी होड़

afp_fi8v4_1471851888

– दोनों सरकारों के बीच मुकाबला इस बात का है कि कौन सिंधु को कितना पुरस्‍कार देता है।

– आंध्र प्रदेश सरकार ने पहले सिंधु को तीन करोड़ रुपए पुरस्‍कार देने का एलान किया है। उसके बाद तेलंगाना सरकार ने पांच करोड़ रुपए देने का एलान कर दिया। वहीं, पुलेला गोपीचंद बैडमिंटन एकेडमी के पास 1000 वर्ग गज का प्लॉट देने की बात भी चल रही है।

– सिंधु को आंध्रा सरकार की ओर से नौकरी और अमरावती में एक प्लॉट देने पेशकश भी की गई है। हालांकि, अभी तक यह कन्फर्म नहीं हो पाया है कि वह भी सिंधु के सम्मान में कोई प्रोग्राम करेगी या नहीं।

– बता दें कि सिंधु पहले से ही भारत पेट्रोलियम में जॉब करती हैं। सिंधु की मां विजया आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा से हैं तो उनके पिता रमन्ना तेलंगाना के आदिलबाद से हैं।

फाइनल में स्पेन की कैरोलिना मारिन से हारी थी सिंधु

– 21 साल की स्टार शटलर पीवी सिंधु ने शुक्रवार रात को इतिहास रच दिया था।

– फाइनल में सिंधु ने पहला सेट 21-19 से जीता, जबकि कैरोलिना ने दूसरा सेट 21-12 से अपने नाम किया। तीसरे सेट में सिंधु को 21-15 से हार का सामना करना पड़ा।

– 12 साल बाद ओलिंपिक में बैडमिंटन का 80 मिनट लंबा मुकाबला देखा गया।

– बता दें कि ओलिंपिक 1896 से खेले जा रहे हैं। भारत 1924 से ओलिंपिक में महिला एथलीट्स भेज रहा था। उस लिहाज से सिंधु 92 साल में सिल्वर जीतने वाली पहली महिला बनीं।

courtesy: Bhaskar.com

Categories: Sports