ब्रह्मोस की तैनाती को लेकर चीन की चेतावनी पर भारतीय सेना ने कहा, ‘इससे आपको क्‍या’

ब्रह्मोस की तैनाती को लेकर चीन की चेतावनी पर भारतीय सेना ने कहा, ‘इससे आपको क्‍या’

नई दिल्‍ली: अरुणाचल प्रदेश में ब्रह्मोस की तैनाती को लेकर चीन की चेतावनी को दरकिनार करते हुए भारतीय सेना ने स्‍पष्‍ट किया है कि उसके फैसले बीजिंग से तय नहीं होंगे. सेना के उच्‍च पदस्‍थ सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया, ‘हमारी सुरक्षा संबधी चिताएं हमारी अपनी हैं और हम अपने इलाके में किस तरह की तैनाती करें, ये तय करना हमारे अपने अधिकार क्षेत्र में है.’

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र पीपुल्स डेली के मुताबिक चीन से सटी सीमा पर ब्रह्मोस की तैनाती से क्षेत्रीय स्थायित्व पर नकारात्मक असर पड़ेगा. वैसे अभी अरुणाचल में ब्रह्मोस की तैनाती हुई भी नहीं है लेकिन चीन की आपत्ति सामने आ गई है. फिलहाल सरकार ने इस आशय का फैसला भर लिया है कि अरुणाचल में ब्रह्मोस की चौथी रेजीमेंट की तैनाती होगी. करीब 4,300 करोड़ की लागत से रेजीमेंट में करीब 100 मिसाइलें, पांच मोबाइल स्वचालित   लॉन्‍चर और एक मोबाइल कमान पोस्ट तैनात होगी. इसकी तैनाती में करीब सालभर का वक्त लग जाएगा.

वैसे ब्रह्मोस की रेंज 290 किलोमीटर है लेकिन चीन के घबराने की वजह है कि इस मिसाइल का उसके पास कोई तोड़ नहीं है. भारत के पास मौजूद ब्रह्मोस सुपरसोनिक है यानी इसकी स्पीड करीब एक किलोमीटर प्रति सेकेंड है, जबकि चीन के पास मौजूद मिसाइल सबसोनिक यानी उसकी स्‍पीड 290 मीटर प्रति सेकेंड है. आम भाषा में समझे तो ब्रह्मोस चीनी मिसाइल से तीन गुना तेज है और इसे फायर करने में वक्त भी कम लगता है. साथ ही इसका निशाना चूकता नहीं है.

इसकी तैनाती के बाद अरुणाचल प्रदेश से चीन के 290 किलोमीटर के दायरे में आने वाली हर जगह इसकी पहुंच में होगी. यहां उन्‍नत ब्रह्मोस की तैनाती होगी जो पहाड़ों में छुपे दुश्मन के ठिकानों को भी निशाना बना सकता है. चीनी सेना के मुताबिक ब्रह्मोस की तैनाती से चीन के तिब्बत और युन्नान प्रांत खतरे की जद में आ जाएंगे.

भारत और रूस की मदद से बना ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है जो ध्वनि से तीन गुना रफ्तार से हमला करता है. इसे पनडुब्बी, युद्धपोत, लड़ाकू विमान आदि से दागा जा सकता है.

Courtesy:NDTV

Categories: India
Tags: Brahmos, China

Related Articles