ओलंपिक में भारत पर सवाल उठाने वाले पाक पत्रकार को अमिताभ का करारा जवाब

ओलंपिक में भारत पर सवाल उठाने वाले पाक पत्रकार को अमिताभ का करारा जवाब

Team India walks in the arena during the opening ceremony for the 2016 Summer Olympics in Rio de Janeiro, Brazil, Friday, Aug. 5, 2016. (AP Photo/Patrick Semansky)

नई दिल्ली: 17 दिन चले रियो ओलंपिक का अब समापन हो गया है. रियो में हुए खेलों के इस महाकुंभ में भारत के लिए साक्षी मलिक ने कुश्ती में ब्रॉंज़ और पीवी सिन्धु ने बैडमिंटन में सिल्वर मेडल जीतकर देश का नाम रौशन किया. भले ही भारत खिलाड़ियों ने ओलंपिक में 2 मेडल अपने नाम किए हों लेकिन ओलंपिक में जाकर इतना बेहतरीन खेल दिखाना ही भारतवासियों के लिए किसी मेडल से कम नहीं है.

दीपा करमाकर से लेकर कई खिलाड़ियों ने ओलंपिक में देश के लिए जी-जान लगा दी. जिसके लिए देशभर में उनकी हौसलाअफज़ाई भी हो रही है लेकिन पाकिस्तान के कुछ लोग ओलंपिक में अपनी खाली झोली की वजह से इतने बौखलाए हैं कि वो भारत को मिले 2 मेडल्स का मज़ाक उड़ा रहे हैं. पाकिस्तान के एक पत्रकार ने ट्वीट कर ओलंपिक में गए भारतीय दल का मज़ाक उड़ाया जिसके बाद किसी आम भारतीय ने नहीं बल्कि खुद बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन ने पाकिस्तानी पत्रकार को करारा जवाब दे डाला.

Amitabh_Sindhu

पाकिस्तान के इन पत्रकार महोदय ने लिखा कि, ‘1.25 करोड़ की आबादी के बावजूद भारत 1 मेडल(सिंधु के सिल्वर मेडल जीत से पहले) जीतने में कामयाब हो पाया, ‘जबकि 50 लाख आबादी वाले नोर्वे ने 2 मेडल जीते हैं.’

साक्षी की जीत के बाद पाकिस्तानी पत्रकार के इस ट्वीट का जवाब देते हुए अमिताभ बच्चन ने लिखा ‘मेरे लिए 1000 गोल्ड मेडल भी बेकार हैं, साक्षी हमारे देश का गौरव हैं और मुझे उन पर गर्व है कि वो एक भारतीय होने के साथ-साथ महिला भी हैं.’

अमिताभ के इस जवाब के बाद पाकिस्तानी पत्रकार को दुनियाभर के भारतीय सोशल मीडिया पर ट्रॉल करने लगे. जिसमें अभिषेक नाम के एक शख्स ने लिखा, ‘पाकिस्तान में इतने सारे आतंकवादी लेकिन शूटिंग में क्वालीफाई नहीं कर पाया.’

लेकिन इस खबर के बाद ये जानना भी ज़रूरी है कि भारते की मेडल संख्या या प्रदर्शन पर वो देश सवाल उठा रहा है जिसने खुद ओलंपिक 2016 में एक भी मेडल नहीं जीता और ओलंपिक में उसने खुद क्या कमाल दिखाया?

भारत की ओर से इस बार ओलंपिक में 118 खिलाड़ियों के सबसे बड़े दल ने क्वालीफाई किया. जबकि पाकिस्तान की तरफ से सिर्फ 7 खिलाड़ी ही ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने में कामयाब रहे.

पाकिस्तान के लिए तैराकी में इआना सवान, हारिस बंदे जबकि जुडूको में शाह हुसैन शाह ने क्वालीफाई किया जो कि पाकिस्तान में भी नहीं विदेश में रहते हैं. जबकि शूटिंग में गुलाम मुस्तफा और मिनहल सोहेल ने क्वालीफाई किया. इनके साथ स्प्रिंटर्स दौड़ में दो और एथलीट्स ने क्वालीफाई किया. इतना ही नहीं पाकिस्तान की तरफ से ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाले इन सभी खिलाड़ियों की वाइल्ड कार्ड एंट्री हुई.

भारत के पदक की उम्मीद रियो ओलंपिक के आखिरी दिन यानी 21 अगस्त तक बनी रही जबकि पाकिस्तानी दल की संभावनाए ओलंपिक खत्म होने से एक हफ्ता पहले 15 अगस्त को ही खत्म हो गई जब पाकिस्तान की आखिरी खिलाड़ी नज़मां परवीन विमेन्स की 200 मीटर दौड़ में 72 एथलीट में से 70वें पायदान पर आईं.

एथलेटिक्स:
पाकिस्तानी एथलीट महबूब अली और नाजमा परवीन सेमीफाइनल से भी पहले हीट राउंड में ही बाहर हो गए.

जूडो:
जूडो में गए इकलौते खिलाड़ी शाह हुसैन शाह भी राउंड ऑफ 32 में ही हारकर बाहर हो गए. पदक तो बहुत दूर की बात है उन्हें राउंड ऑफ 16 में पहुंचने का मौका भी नहीं मिला.

निशानेबाजी:
शूटिंग में भी पाकिस्तान का हाल कुछ ऐसा ही रहा, गुलाम मुस्तफा बशीर 25मीटर रैपिड फायर पिस्टल में 18वें पायदान पर रहते हुए फाइन्लस के लिए क्वालीफाई भी नहीं कर पाए. जबकि मीनल सोहेल 10 मीटर एअर राइफल में 28वें पायदान पर रहीं.

तैराकी:
पुरूषों की 400 मीटर फ्रीस्टाइल में हारिस बंदे 50वें पायदान पर रहते हुए हीट राउंड में ही बाहर हो गए. जबकि लिआना सवान 50मीटर विमेन्स फ्री स्टाईल में 68वें पायदान पर रहीं.

Athletes from India march into the closing ceremony in the Maracana stadium at the 2016 Summer Olympics in Rio de Janeiro, Brazil, Sunday, Aug. 21, 2016. (AP Photo/Charlie Riedel)

सिन्धु के सिल्वर और साक्षी के ब्रॉंज़ के अलावा भारत का प्रदर्शन:

अदिती अशोक: भारत की युवा गोल्फर अदिति अशोक ने रियो ओलंपिक की महिला गोल्फ की स्पर्धा में अंतिम दिन पांच ओवर 76 कार्ड के कारण संयुक्त 41वें स्थान पर रहीं. 18 साल की उम्र में रियो में गोल्फ के फाइनल में पहुंचने वाली वो सबसे युवा गोल्फर भी बनीं. अदिती ओलंपिक से छह महीने पहले ही पेशेवर हुई हैं.

गोपी थनकल और खेता राम: जबकि भारदीय दल में रियो ओलम्पिक के आखिरी दिन रविवार को पुरुषों की मैराथन स्पर्धा में भारतीय रनर गोपी थनकल और खेता राम ने 25वां और 26वां स्थान हासिल किया. गोपी और खेता राम भारत के लिए पदक तो नहीं ला सके, लेकिन दोनों ही धावकों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी और अपना-अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ किया.

Vindesh

विनेश फोगाट: दमदार खेल दिखा रही विनेश क्वार्टर फाइनल मैच के दौरन चीन की सुन यानान के खिलाफ खेलते हुए चोटिल होकर बाहर हुई लेकिन अपने दमदार खेल से उन्होंने सबका दिल जीत लिया. विनेश ने दमदार प्रदर्शन करते हुए एकतरफा मुकाबले में जीत हासिल करते हुए 1/4 फाइनल्स में प्रवेश किया था. विनेश को क्वालिफिकेशन राउंड में बाई मिला था और उन्होंने सीधे 1/8 फाइनल्स चरण से अपने अभियान की जीत के साथ शुरुआत की थी.

विनेश ने अपने पहले मुकाबले में ग्रेट सुपीरियॉरिटी के साथ रोमानिया की अपनी प्रतिद्वंद्वी एमिला एलिना वुक को 11-0 से मात दी थी.

ललिता बाबर: रियो ओलंपिक में महिलाओं की 3000 मीटर स्टीपलचेस में फाइनल में 10वें स्थान पर रहते हुए ललिता बाबर ने देश का नाम रौशन किया. ललिता ने नौ मिनट 22.74 सेकेंड का समय निकालते हुए फिनिश लाइन पार की.

India's Dipa Karmakar performs on the vault during the artistic gymnastics women's apparatus final at the 2016 Summer Olympics in Rio de Janeiro, Brazil, Sunday, Aug. 14, 2016. (AP Photo/Julio Cortez)

दीपा करमाकर: भारत की दीपा करमाकर ने 31वें ओलम्पिक खेलों की वॉल्ट स्पर्धा के फाइनल में चौथे स्थान पर रहीं. वह महज कुछ अंकों के साथ कांस्य पदक से चूक गईं. दीपा ने पहले प्रयास में 8.666 और दूसरे प्रयास में 8.266 अंक हासिल किए. दीपा ने पहले प्रयास में 6 डिफिकल्टी और दूसरे प्रयास में सात डिफिकल्टी चुना था. दीपा ने शानदार प्रदर्शन करते हुए देश का नाम रौशन किया.

dattu1-580x3951

ददतू बबन: भारतीय रोवर दत्तू बबन भोकानाल ने रियो ओलम्पिक में भले ही पदक ना जीत हो लेकिन विश्व रैंकिंग के लिए ओलंपिक में फाइनल-सी मुकाबले में उन्होंने शानदार प्रदर्शन करते हुए टॉप पोजिशन हासिल की. भोकानाल ने फाइनल-सी में छह प्रतिभागियों के बीच 6 मिनट 54:96 सेकेंड का समय निकालकर दत्तू ने टॉप पर रहते हुए ओलम्पिक से विदा ली.

Courtesy: ABPNews

Categories: Sports