दलितों संग कांग्रेस की दहाड़

दलितों संग कांग्रेस की दहाड़

24082016-md-de-18-52643-1-large

गुजरात के उना में दलितों के खिलाफ अत्याचार और महंगाई के मुद्दे पर मंगलवार को कांग्रेस ने राजधानी गांधीनगर में एक बड़ी रैली निकाली। कांग्रेस की ‘जनाक्रोश रैली’ उस वक्त उग्र हो गई जब पुलिस ने पार्टी कार्यकर्ताओं को विधानसभा के गेट पर रोक लिया। इसके बाद पुलिस को भीड़ पर काबू पाने के लिए वाटर कैनन का प्रयोग करना पड़ा। पुलिस के बल प्रयोग में कांग्रेस विधायक प्रवीण राठौड़ बेहोश हो गए। पुलिस ने गुजरात विधानसभा में नेता विपक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला समेत पार्टी के 400 कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया।
रिहा किए गए पार्टी कार्यकर्ता : गांधीनगर के एसपी वीरेंद्र यादव के मुताबिक, ‘प्रदर्शनकारियों को उस वक्त रोक लिया गया जब वे विधानसभा के मुख्य दरवाजे पर पहुंच गए। जिन लोगों को हिरासत में लिया गया उनमें वाघेला के अलावा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी, सीनियर नेता शक्तिसिंह गोहिल, सिद्धार्थ पटेल, राज्यसभा सांसद मधुसूदन मिस्त्री, मनीष दोशी, और करीब 20 विधायक हैं। बाद में सभी लोगों को रिहा कर दिया गया।’

50 कांग्रेस विधायक निलंबित : दलितों का मुद्दा लगातार दूसरे दिन गुजरात विधानसभा में छाया रहा। विधानसभा की कार्यवाही दलितों के मुद्दे पर तीखी नोंकझोंक से शुरू हुई। इस दौरान कांग्रेस विधायकों ने मंत्रियों की ओर चूड़ियां भी फेंकी। उना मामले को लेकर हंगामा करने पर कांग्रेस के 50 विधायकों को गुजरात विधानसभा से निलंबित कर दिया गया। बार-बार चेतावनी दिए जाने के बावजूद जब कांग्रेस विधायक शांत नहीं हुए तो विधानसभा अध्यक्ष रमनलाल वोरा के निर्देश पर मार्शल विधायकों को सदन से बलपूर्वक बाहर ले गए।

मृत पशु न फेंकने पर दलितों की पिटाई : गुजरात के सौराष्ट्र इलाके के एक गांव में गोरक्षकों ने गाय के बछड़े का शव फेंकने से मना करने पर दो दलित युवकों के साथ मारपीट की। पुलिस ने बताया कि इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।

Courtesy: Navbharat Times

Categories: India, Politics

Related Articles