8 साल में GDP में 63.8% ग्रोथ, सैलरी सिर्फ 0.2% बढ़ी

8 साल में GDP में 63.8% ग्रोथ, सैलरी सिर्फ 0.2% बढ़ी

नई दिल्ली
आठ साल पहले यानी 2008 की महामंदी के बाद से भारत में सैलरी ग्रोथ सिर्फ 0.2 फीसदी हुई है जबकि चीन में इस अवधि के दौरान 10.6 फीसदी सैलरी ग्रोथ हुई है। इस बात का खुलासा एक रिपोर्ट में किया गया है। कॉर्न फेरी के हे ग्रुप डिविजन के नए विश्लेषण के मुताबिक, ‘भारत में इस अवधि में सैलरी ग्रोथ जहां 0.2 फीसदी हुई है, वहीं जीडीपी में 63.8 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इस अवधि में चीन में 10.6 फीसदी, इंडोनेशिया में 9.3 फीसदी और मेक्सिको में 8.9 फीसदी ग्रोथ हुई है। दूसरी तरफ कुछ अन्य उभरते मार्केट में सैलरी ग्रोथ का बहुत बुरा हाल रहा है। उन देशों में तुर्की, अर्जेंटिना, रूस और ब्राजील शामिल हैं जहां क्रमश: (-)34.4 फीसदी, (-)18.6 फीसदी, (-)17.1 फीसदी और (-)15.3 फीसदी सैलरी ग्रोथ हुई है।

रिपोर्ट में यह भी उल्लेख किया गया है कि भारत में सैलरी ग्रोथ में काफी असमानता दिखी है। सीनियर लेवल पर तो 30 फीसदी ज्यादा तक सैलरी ग्रोथ हुई है, जबकि निचले लेवल पर सैलरी ग्रोथ में 30 फीसदी गिरावट आई है।

ऐसा माना जाता है कि सीनियर लेवल पर मजबूत सैलरी ग्रोथ का कारण इन अहम पदों पर स्किल की कमी है। इसके अलावा ग्लोबलाइज्ड पे मार्केट से करीबी बढ़ी है। उन मार्केट की तुलना में भारत में सीनियर लेवल पर कम सैलरी दी जाती है, इसलिए उनकी बराबरी में आने की कोशिश में सीनियर लेवल पर मजबूत सैलरी ग्रोथ हुआ है। जहां तक निचले लेवल की बात है तो यहां लोगों की जरूरत से अधिक सप्लाई के कारण सैलरी ग्रोथ में गिरावट आई है।

Courtesy: NBT

Categories: Finance

Related Articles