मांस को लेकर राजौरी में दो समुदायों में टकराव, भीड़ उकसाने वाले 2 अफसर सस्पेंड

जम्मू.मांस की एक घटना को लेकर जम्मू-कश्मीर के राजौरी में दो समुदायों में विवाद हुआ फिर माहौल खराब हो गया। दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। दुकानों में आग लगा दी गई, सिक्युरिटी फोर्सेस पर पथराव हुआ। हालात काबू से बाहर होते ही कर्फ्यू लगा दिया गया और जिले को सेना के हवाले कर दिया गया है। गुरुवार को हालात जस के तस रहने से लोगों को घर से बाहर नहीं निकलने दिया गया। भीड़ को उकसाने के आरोप में दो अफसर सस्पेंड, इस वजह से भड़की हिंसा…

इस बीच भीड़ को उकसाने के आरोप में प्रशासन ने दो अफसरों खुर्शीद अहमद (नायब तहसीलदार) तथा नरवेज सिकिंद्र (टीचर) को सस्पेंड कर दिया।

दरअसल, बुधवार शाम राजौरी में एक गाड़ी रोकी गई जिसमें मांस था। दूसरी कम्युनिटी के लोगों ने इसे गोवंशीय बताया। इसी बात पर माहौल खराब हुआ।

लोग सड़कों पर उतर गए। देर रात तक दुकानों को आग लगाई जाती रही। गाड़ियों के एक शो-रूम को भी नुकसान पहुंचाया गया। पुलिस पर जमकर पथराव हुआ।

इसके बाद राजौरी में कर्फ्यू लगा दिया गया। हालात देखते हुए इलाके को सेना के हवाले कर दिया गया है। देर रात तक कई इलाकों में प्रदर्शन जारी रहा, लेकिन सेना ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ दिया।

सैन्य अफसरों ने दोनों कम्युनिटी को मिलाया

गुरुवार सुबह सेना के आला अफसरों ने दोनों कम्युनिटी के लोगों के बीच मीटिंग कराईं, ताकि माहौल शांत किया जा सके।

एक कम्युनिटी का कहना है कि ऊंट का मांस लेकर जा रहे थे। उस जानवर की कुर्बानी दी गई थी, इसलिए हमारे ड्राइवर से मारपीट करने वालों को पकड़ा जाए।

जबकि दूसरी कम्युनिटी ने इसे बीफ बताते हुए इसमें शामिल लोगों पर कार्रवाई करने की डिमांड की।

कश्मीर में शांत है माहौल

उधर, कश्मीर में गुरुवार को माहौल शांत रहा। घाटी के बांडीपोरा में सैकड़ों लोग रैली लेकर दाचीगाम गांव पहुंचे।

इस गांव के मुस्तफा मीर की ईद के दिन मौत हुई थी। गांव के चौक में हुर्रियत नेताओं ने रैली किया।

श्रीनगर समेत कुछ इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने आजादी के पक्ष में रैलियां निकालीं, लेकिन सेना ने उन्हें खदेड़ दिया गया।

Courtesy: Dainik Bhaskar

Categories: India

Related Articles