2017 में बंद होगी ‘इंदिरा आवास योजना’, ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ लेगी जगह

2017 में बंद होगी ‘इंदिरा आवास योजना’, ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ लेगी जगह

नई दिल्ली. केन्द्र सरकार अब जल्द ही यूपीए सरकार की इंदिरा आवास योजना को बंद करने जा रही है. मोदी सरकार के अनुसार यह योजना मार्च 2017 तक ही लागू रहेगी. इसके बाद इस योजना को बंद कर दिया जाएगा. हालांकि इस योजना कि जगह पर मोदी सरकार प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) लॉन्च करने जा रही है.

रिपोर्ट्स के अनुसार केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय प्रधानमंत्री आवास योजना को अक्टूबर तक लॉन्च करने की तैयारी में है. जो कि यूपीए सरकार की इंदिरा आवास योजना की जगह लेगी. केन्द्र सरकार की ओर से लाई जाने वाली पीए आवास योजना पुरानी योजना के साथ ही करीब 6 महीनों तक चलेगी. इसके बाद कांग्रेस की ओर से शुरू की गई इंदिरा आवास योजना को बंद कर दिया जाएगा.
इस वित्तिय वर्ष तक काम खत्म करने के निर्देश
पीएम आवास योजना को देखते हुए ग्रामीण विकास मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों को इंदिरा आवास योजना के अन्तर्गत चल रहे कंस्ट्रक्शन मकानों के कामों को इस वित्तिय वर्ष तक खत्म करने के आदेश जारी किए गए है. इस बीच 38 लाख आवास अंडर कंस्ट्रक्शन हैं. वहीं इसे लेकर एक अधिकारी का कहना है कि साल 2016 के शुरुआती पांच महीनों में 38 लाख में से 10 लाख घर बनाए जा चुके है. इसलिए इस तय समय सीमा के अंदर आवासों का काम पूरा आसानी से किया जा सकता है.
2019 तक 1 करोड़ घर बनाने का लक्ष्य
बता दें कि 1985 में लॉन्च की गई इंदिरा आवास योजना के तहत ग्रामीण इलाकों में गरीबों को सब्सिडी के आधार पर घर उपलब्ध कराया जाता है. वहीं पीएम आवास योजना के अन्तर्गत मोदी सरकार का लक्ष्य 2019 तक एक करोड़ घर बनाने का है. इतना ही नहीं योजना लागू करने से पहले ग्रामीण विकास मंत्रालय ने आर्थिक, सामाजिक और जातिगत रूप से पिछड़े लोगों की पहचान की है जिन्हें घर मुहैया कराना है.
Courtesy:InNews
Categories: Politics

Related Articles