जल्द ही EPFO के ऐप से निकाल पाएंगे पेंशन

जल्द ही EPFO के ऐप से निकाल पाएंगे पेंशन

नई दिल्ली
जल्द ही आप स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर अपनी पेंशन निकाल पाएंगे। दरअसल, एंप्लॉयीज प्रविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन (ईपीएफओ) पेंशनधारियों और सदस्यों की सुविधा के लिए मोबाइल ऐप्लिकेशन बनाने और ज्यादातर सेवाएं ऑनलाइन करने की दिशा में पहल कर रहा है।

सेंट्रल प्रविडेंट फंड कमिश्नर वी. पी. जॉय ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘हम पेंशनरों के लिए एक ऐप बना रहे हैं और उम्मीद है कि अगले साल तक यह तैयार हो जाएगा।’ पेंशनरों के लिए ऐप आने से कागजी कार्रवाई में कमी आएगी और आवेदन की प्रक्रिया में भी कम समय लगेगा। इसमें आधार के इस्तेमाल से इलेक्ट्रॉनिक नो योर कस्टमर (ई-केवाइसी) के जरिए वेरिफिकेशन होगा।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन अपनी तकनीक को भी उन्नत करने का भरपूर प्रयास कर रहा है ताकि सब्सक्राइबर्स ईपीएफओ अधिकारियों के आमने-सामने हुए बिना सर्विस का उपयोग कर सकें। जॉय ने कहा, ‘आइडिया यह है कि लोग हमारी ज्यादातर सेवाएं ऑनलाइन प्राप्त कर सकें। अगले साल की शुरुआत में ही ऑनलाइन सेवाएं शुरू हो जाएंगी।’

उन्होंने बताया कि आसान पेमेंट के लिए बैंकों के साथ तालमेल भी की जा रही है। अभी देशभर के अपने 123 दफ्तरों के डेटा इसके दिल्ली दफ्तर के सेंट्रल सर्वर में डाले जा रहे हैं। जॉय ने बताया, हमने एक ऑफिस से डेटा मूव कर लिया है और यहां (सेंट्रल सर्वर में) सभी डेटा लाने की पूरी प्रक्रिया जल्द हो जाएगी।’ सेंटर फॉर डिवेलपमेंट ऑफ ऐडवांस्ड कंप्यूटिंग (सीडीएसी) को ईपीएफओ की तकनीक सुधारने का जिम्मा मिला है। जॉय ने बताया कि संगठन के कुल 3.84 करोड़ सब्सक्राइबर्स में से कुल 1.4 करोड़ के अकाउंट्स आधार से जोड़े जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि सीडीएसी विभिन्न ऐप बनाने में भी ईपीएफओ की मदद करेगा।

ईपीएफओ संगठित क्षेत्र में काम करनेवालों की पेंशन और इंश्योरेंस स्कीम्स मैनेज करता है। यह क्लायंट्स और ट्रांजैक्शन्स के लिहाज से दुनिया के बड़े पेंशन फंड्स में एक है। यह तकनीक में सुधार के अलावा सब्सक्राइबरों की संख्या बढ़ाने के लिए कुछ नई योजनाएं पेश करने पर विचार कर रहा है। इस प्रयास से वह बदलते वित्तीय परिवेश में खुद को प्रासंगिक भी बनाए रह सकता है। संगठन अपने सदस्यों के लिए ग्रुप हाउजिंग स्कीम के साथ-साथ अलग से पेंशन स्कीम लाने पर भी विचार कर रहा है। इसके तहत संगठन के सदस्य एक समूह में हाउजिंग स्कीम के लिए आवेदन दे सकते हैं और ईपीएफओ उनके अकाउंट में उपलब्ध अमाउंट को सर्टिफाइ करेगा जो सामूहिक रूप से काम करेगा।

Courtesy: NBT
Categories: Finance