राहुल गाँधी पर जूता फेंके जाने की घटना, बीजेपी और RSS की परेशानी और राहुल को मिल रहे जनसमर्थन की निशानी है?

राहुल गाँधी पर जूता फेंके जाने की घटना, बीजेपी और RSS की परेशानी और राहुल को मिल रहे जनसमर्थन की निशानी है?
उत्तर प्रदेश के सीतापुर में जारी एक रोडशो के दौरान सोमवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर जूता फेंके जाने की ख़बर है. कांग्रेस उपाध्यक्ष पर जूता फेंकने वाले 25-वर्षीय युवक अनूप मिश्रा को हिरासत में ले लिया गया है.
घटना के वीडियो में देखा जा सकता है कि राहुल गांधी खुले वाहन में सवार थे. इसी दौरान उनकी ओर एक जूता फेंका गया, और फिर वह उस दिशा में देख रहे हैं, जहां जूता जाकर गिरा.
इसके बाद राहुल गांधी ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘मैं एक बस पर सवार होकर जा रहा था और मुझ पर जूता फेंका गया. यह मुझे नहीं लगा. मैं बीजेपी और आरएसएस से कहना चाहता हूं कि आप मुझपर जितने मर्जी जूते फेंकें, लेकिन मैं पीछे नहीं हटूंगा. मैं आपसे नहीं डरता. मैं प्यार और भाईचारे में हमेशा विश्वास रखूंगा और आप नफरत के साथ चिपके रहें.’
इसे केवल एक घटना कह कर नहीं छोड़ा जा सकता है, इसका मुख्य कारण राहुल गाँधी को पदयात्रा में जिस तरह से सभी वर्गों का जनसमर्थन मिल रहा है, वह BJP, RSS के साथ साथ बाकी विरोधी दलों के लिए परेशानी पैदा कर सकता है. BJP और RSS को सबसे ज्यादा परेशानी  हो रही है क्योंकि जिस तरीके  से राहुल गाँधी प्रधानमंत्री मोदी पर लगातार आक्रमण कर रहे हैं, चाहे वह किसानों के कर्जे को लेकर, 15 लाख खातों में आना हो या फिर सूट बूट की सरकार और उद्योगपतियों की सरकार बताना हो, वह मोदी की छवि को ख़राब कर रहा है और राहुल की पदयात्रा का सबसे ज्यादा नुक्सान बीजेपी और मोदी को ही हो रहा है.
ऐसा नहीं है की राहुल केवल बीजेपी को निशाना बना रहे हैं, उन्होंने सपा और बसपा पर भी काफी बार निशाना साधा है और उन्हें आड़े हाथों लिया है. बसपा सुप्रीमो मायावती को सबसे ज्यादा चिंता कांग्रेस से ही है क्योंकि कांग्रेस उनके ब्राह्मण कार्ड को ख़राब कर रही है.
जिस तरीके से राहुल गाँधी ने इस घटना को संभाला वो भी जाहिर कर रहा है की वो एक नेता के तौर पर परिपक्व हो रहे हैं. उन्होंने कहा मैं बीजेपी और आरएसएस से कहना चाहता हूं कि आप मुझपर जितने मर्जी जूते फेंकें, लेकिन मैं पीछे नहीं हटूंगा. मैं आपसे नहीं डरता. मैं प्यार और भाईचारे में हमेशा विश्वास रखूंगा और आप नफरत के साथ चिपके रहें.
Categories: Opinion