मूर्ति विसर्जन व मुहर्रम पर पूरब से पश्चिम तक जमकर बवाल

मूर्ति विसर्जन व मुहर्रम पर पूरब से पश्चिम तक जमकर बवाल

लखनऊ  मु्रहर्रम के मातमी जुलूसों के बीच जगह-जगह बवाल भी खूब हुए। इसके अलावा दुर्गापूजा के बाद प्रतिमा विसर्जन के दौरान भी दोनों समुदायों के लोगों के आमने-सामने आने से कई जगह जमकर संघर्ष हुआ। कौशांबी में मूर्ति विसर्जन जुलूस का रास्ता रोके जाने पर पथराव में एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। पुलिस के लाठीचार्ज में दर्जन भर ग्र्रामीणों को भी चोट आई। महोबा विसर्जन के लिए मूर्तियां ले जाने के दौरान ताजिया में गुलाल गिरने से माहौल बिगड़ गया। गोंडा शहर में दो संप्रदायों में विवाद के चलते मुहर्रम का जुलूस नहीं निकला।

अमरोहा में जुलूस के दौरान एक ही संप्रदाय के दो पक्षों में भिड़ंत हो गई तो संभल में निकाले जा रहे ताजिये का दूसरे समुदाय के लोगों ने विरोध कर दिया। इससे तनाव फैल गया। कौशांबी के रक्सवारा गांव के मजरा कटरा और रामपुर में दुर्गा प्रतिमा विर्सजन के रास्ते में ताजिया रखा गया था। दोनों पक्षों तय हो गया था कि मंगलवार दो बजे तक विसर्जन कर लिया जाएगा। फिर ताजियादार मातमी जुलूस निकालेंगे। लेकिन कटरा वाली मूर्ति दोपहर तीन बजे रास्ते पर लाई गई। इसका ताजियादारों ने विरोध कर दिया। मसला रात रात 11 बजे तक नहीं सुलझा। इस बीच पुलिस ने रास्ता रोककर ताजिया को निकालने दिया।

इससे आक्रोशित लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। पुलिस के छह वाहन व एक मीडियाकर्मी का वाहन क्षतिहग्र्रस्त हो गया। जवाब में पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इससे दर्जन भर लोगों को चोट आई। इससे खफा लोगों ने बुधवार सुबह रक्सवारा में नहर के पुल के निकट मुहर्रम का मातमी जुलूस रोकने का प्रयास किया, तो पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। भीड़ भी ईंट-पत्थर चलाने लगी। एसपी समेत सीओ मंझनपुर रमाकांत यादव, करारी एसओ के साथ तीन सिपाही जख्मी हो गए।

महोबा के कबरई कस्बा में रखी मूर्ति विसर्जन जुलूस के दौरान ताजिया में गुलाल गिर गया। इससे माहौल तनावपूर्ण हो गया, लेकिन पुलिस ने किसी तरह मामला संभाला। कन्नौज, फर्रुखाबाद तथा हरदोई में भी आपसी तनातनी की स्थिति देखी गई।
गोंडा में बुधवार को शहर में मुहर्रम का जुलूस नहीं निकला। मंगलवार को प्रतिमा विसर्जन को लेकर विवाद हो गया था। ऐसे में मुहर्रम के जुलूस में भी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर आशंका थी। डीएम की मानें तो सदस्यों ने बताया कि उन्होंने सौहार्द कायम रखने के मद्देनजर ताजिया नहीं रखे हैं। अमरोहा के नौगावां थाना क्षेत्र के गांव बांसखेड़ी में बुधवार को निकाले जा रहे ताजिये के जुलूस का उसी संप्रदाय के दूसरे पक्ष के लोगों ने विरोध कर दिया। इसे लेकर मारपीट और पथराव हो गया, जिसमें एक दर्जन लोग घायल हो गए।

सम्भल के सिसौटा गांव में मंगलवार आधी रात के बाद निकाले जा रहे ताजिये का दूसरे संप्रदाय के लोगों ने नई परंपरा बताते हुए विरोध किया तो मारपीट व पथराव हो गयाष। कई लोग घायल हो गए। मामले में 35 नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। एचोंली गांव में बुधवार को दो बार ताजिया निकाले जाने पर विवाद हो गया। रामपुर के मुस्तफाबाद गांव में दूसरे समुदाय द्वारा ताजिया रोकने पर स्थिति तनावपूर्ण हो गई

भाजपा नेता लापता, असमंजस की स्थिति
प्रतिमा विसर्जन के दौरान मंगलवार को पथराव हो गया था, इस पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया था। लाठीचार्ज के बाद से ही भाजपा नेता महेश नरायन तिवारी 24 घंटे से लापता हैं। बुधवार को उनकी पत्नी निर्मला तिवारी ने आवास पर प्रेसवार्ता में यह जानकारी दी कि उनके पति को पुलिस ने बर्बरता से पीटा और गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें कहां रखा गया है, इसकी जानकारी नहीं दी जा रही है। एसपी सुधीर कुमार ङ्क्षसह का कहना है कि वह मामले में आरोपी है और फरार है। उसकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Crime

Related Articles