आर्मी-सरकार में मतभेद की खबर बिल्कुल सही थी, 3 बार चेक किए थे फैक्ट्स: PaK जर्नलिस्ट

आर्मी-सरकार में मतभेद की खबर बिल्कुल सही थी, 3 बार चेक किए थे फैक्ट्स: PaK जर्नलिस्ट

इस्लामाबाद.नवाज शरीफ सरकार और पाकिस्तान आर्मी के बीच गहरे मतभेद की खबर देने वाले जर्नलिस्ट सेरिल अलमीडा ने दावा किया है कि उनकी खबर बिल्कुल सटीक थी। सेरिल के मुताबिक, इतनी अहम खबर देने के पहले उन्होंने फैक्ट्स को तीन बार चेक किया था। बता दें कि भारत और पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी अखबार ‘द डॉन’ में खबर छपी थी कि नवाज सरकार ने आर्मी से आतंकियों पर सख्त कार्रवाई करने या दुनिया में अलग-थलग पड़ जाने की बात कही थी।सेरिल ने लिखा- ये हफ्ता याद रहेगा….

पाकिस्तान की राजनीति और सेना को हिला देने वाली खबर देने के करीब एक हफ्ते बाद अलमीडा ने ‘द डॉन’ में एक आर्टिकल लिखा।

इस आर्टिकल का टाईटल है ‘एक हफ्ता जो याद रहेगा’। बता दें कि अलमीडा की खबर के बाद पाकिस्तान सरकार ने उनके देश छोड़ने पर रोक लगा दी थी। लेकिन देश और विदेश में विरोध के बाद ये बैन हटा लिया गया था।
आर्टिकल में सेरिल ने कहा- मैं अपनी स्टोरी पर पूरी ताकत से कायम हूं। इसे प्रिंट कराने के पहले मैंने तीन बार फैक्ट्स चेक किए थे। मैं किसी तरह का कोई चांस नहीं लेना चाहता था।

तीन दिन बाद दी खबर
अलमीडा के मुताबिक, ‘सरकार और आर्मी के बीच मीटिंग 3 अक्टूबर को हुई। मेरे पास इसकी जानकारी उसी दिन आ गई थी। लेकिन हमने इसे 6 अक्टूबर को पब्लिश किया। इसकी वजह ये थी कि हम कम से कम दो या तीन बार फैक्ट्स चेक करना चाहते थे और इस पर ऑफिशियल वर्जन चाहते थे।’
अलमीडा ने उस खबर में लिखा था, ‘पाकिस्तान सरकार ने आर्मी से कहा- तमाम बैन टेरर ग्रुप्स जैसे लश्कर और जैश के खिलाफ कार्रवाई करो या फिर दुनिया में अलग-थलग पड़ने के लिए तैयार रहो।’ अलमीडा की इस खबर को सरकार और सेना ने बेबुनियाद करार दिया था।

सरकार और सेना का झूठ

हैरानी की बात ये रही कि सरकार और सेना एक तरफ तो खबर को झूठा बता रही थीं और दूसरी तरफ उन्होंने अलमीडा को एग्जिट कंट्रोल लिस्ट में डाल दिया। जब प्रेशर बढ़ा तो पिछले शुक्रवार को बैन हटा लिया गया। इतना ही नहीं अलमीडा की खबर को नेशनल सिक्युरिटी के लिए खतरा बताया गया।

सिर्फ सच्चाई सामने लाना चाहते थे

अलमीडा ने आर्टिकल में लिखा, ‘मेरे और अखबार के लिए दो सवाल ही अहम थे। क्या मीटिंग हुई थी? और अगर हुई तो इसमें किन बातों पर चर्चा हुई? ये बात सही है कि जब आप कुछ अलग करते हैं तो दिल तेजी से धड़कता है। खुद की भी चिंता सताती है।’

क्या है विवाद की जड़?
उड़ी हमले के बाद भारतीय सेना के कमांडोज ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक की। इसमें 38 आतंकी और तीन पाकिस्तानी सैनिक मारे गए।
घटना के बाद नवाज ने आर्मी के साथ मीटिंग की। नवाज ने इसमें कहा- “आर्मी आतंकियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे। अगर ऐसा नहीं होता तो पाकिस्तान दुनिया में अलग-थलग पड़ जाएगा।”
ये खबर ‘द डॉन’ ने फ्रंट पेज पर सूत्रों के हवाले से छापी। इसके रिपोर्टर सेरिल अलमीडा के देश छोड़ने पर पाबंदी लगा दी गई। बाद में इंटरनेशनल प्रेशर पड़ा तो बैन हटा लिया गया।
पाकिस्तान सरकार और सेना खबर को झूठा बताने की कोशिश कर रही है, लेकिन अखबार का कहना है कि उसने जो खबर छापी थी, वो बिल्कुल सही थी।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: International