यूपी में सैमसंग करेगी 1970 करोड़ का निवेश, 2 लाख नौजवानों को मिलेगा रोजगार

यूपी में सैमसंग करेगी 1970 करोड़ का निवेश, 2 लाख नौजवानों को मिलेगा रोजगार

लखनऊ अखिलेश सरकार की ओर से समाजवादी स्मार्टफोन योजना को लांच किये जाने के बाद इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों की निर्माता कंपनी सैमसंग उत्तर प्रदेश में अपनी मोबाइल फोन हैंडसेट उत्पादन क्षमता को दोगुना करेगी। इसके लिए कंपनी नोएडा स्थित अपने प्लांट का विस्तार करने के लिए 1970 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। सैमसंग की ओर से प्राप्त हुए निवेश प्रस्ताव को उप्र अवस्थापना एवं औद्योगिक निवेश नीति के तहत सुपर मेगा परियोजना मानते हुए सोमवार को हुई कैबिनेट बैठक में कंपनी को कई तरह की रियायतें और प्रोत्साहन देने का फैसला हुआ। कंपनी के निवेश प्रस्ताव पर राज्य सरकार की ओर से यह फैसला किये जाने के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मौजूदगी में उनके सरकारी आवास पर सैमसंग के प्रेसीडेंट व मुख्य कार्यकारी अधिकारी एचसी हांग और मुख्य सचिव राहुल भटनागर के बीच सहमति पत्र (एमओयू) हस्ताक्षरित हुआ।
मुख्य सचिव ने बताया कि इस निवेश के जरिये कंपनी नोएडा प्लांट में मोबाइल हैंडसेट उत्पादन क्षमता को सालाना छह करोड़ से बढ़ाकर 12 करोड़ करने के साथ रेफ्रीजरेटर बनाने की क्षमता में भी इजाफा करेगी। कंपनी कुल 1970 करोड़ रुपये के पूंजी निवेश में से 738 करोड़ रुपये का निवेश कर चुकी है। नोएडा प्लांट के विस्तार के लिए कंपनी को नोएडा प्राधिकरण द्वारा 1.2 लाख वर्ग मीटर भूमि उपलब्ध कराना प्रस्तावित है। इस विस्तारीकरण परियोजना के तहत कंपनी 1500 लोगों को रोजगार देगी।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सैमसंग ने राज्य सरकार की औद्योगिक निवेश नीति के तहत जो निवेश किया है, उससे नौजवानों को रोजगार मिलने के साथ प्रदेश की अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ेगी। कंपनी के प्लांट में तैयार होने वाले उत्पादों से लोगों के जीवन में आराम और बदलाव दिखेगा। उप्र तेजी से तरक्की कर रहा है। रंगीन टेलीविजन, रेफ्रीजरेटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों की जो मांग शहरों में है, वह अब गांवों से भी उठने लगी है। उप्र में तो बड़ी संख्या में लोग जेब में दो और कुछ तो तीन मोबाइल फोन लेकर चलते हैं। उप्र जैसा बड़ा बाजार और कहां मिलेगा। समाजवादी लोग जिस रफ्तार से उप्र को आगे लेकर जा रहे हैं, उसमें अब हम इतने स्मार्टफोन भी बांटेंगे जितने कहीं नहीं बंटे होंगे। हो सकता है कि स्मार्टफोन इतने बांटने पड़ जाएं कि उनका उत्पादन कम पड़ जाए।
अपने संबोधन में हांग ने कहा कि हम मेक इन यूपी, मेक फॉर इंडिया के साथ मेक फॉर द वल्र्ड के लिए समर्पित हैं। भारत की आर्थिक विकास दर तेजी से बढ़ रही है और इसके आगे भी जारी रहने के भरपूर आसार हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था में उठने वाली मांग का बड़ा हिस्सा छोटे कस्बों और गांवों से आएगा। इसे देखते हुए सैमसंग ने मोबाइल फोन और वाइट गुड्स (रेफ्रीजरेटर, वाशिंग मशीन, एयर कंडीशनर आदि) की उत्पादन क्षमता बढ़ाने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि भारत में सैमसंग के ढाई लाख रिटेल आउटलेट और 40 हजार से ज्यादा कर्मचारी हैं। कंपनी ने पिछले साल देश में 500 से ज्यादा सर्विस सेंटर स्थापित किये हैं जिनमें से ज्यादातर छोटे शहरों, तहसीलों और कस्बों में हैं। इस अवसर पर राजनीतिक पेंशन मंत्री राजेंद्र चौधरी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास विभाग के प्रमुख सचिव रमारमण, व सैमसंग के अधिकारी भी मौजूद थे।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Regional