नाना पाटेकर बोले- भेदभाव खत्म होकर मिटनी चाहिए जातियों के बीच की दूरियां

नाना पाटेकर बोले- भेदभाव खत्म होकर मिटनी चाहिए जातियों के बीच की दूरियां

रायगढ़. “जातियों के बीच की दूरियां कम करने के लिए सबको साथ आना चाहिए। हर जाति के मोर्चे के बजाय सभी जातियों का एक ही मोर्चा अपनी मूलभूत मांगों को लिए निकलना चाहिए।” यह कहना है अभिनेता नाना पाटेकर का। और क्या कहा नाना ने….

-नाना पाटेकर रायगढ़ जिले के रोहा में एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने हाल मौजूदा सामाजिक स्थिति को लेकर भाषण दिया।
-मानवता ही सबसे बड़ी जाति है इससे बढ़कर कोई जाति नहीं है।
-लेकिन आज लोग मूलभूत सुविधाओं के लिए भी मोर्चे निकाल रहे हैं। यह हमारी सबसे बड़ी असफलता हैं।
-उन्होंने कहा कि किसी ने भी आज तक मेरी जाति के बारे में नहीं पूछा और न ही मैंने किसी की जाति पूछी।
-मैं जैसा हूं वैसा ही आप लोगों ने मेरा स्वीकार किया। एेसा ही हर आदमी के साथ होना चाहिए।
-इसलिए हमें अपनी मांगों को लेकर किसी एक जाति के बजाय समाज के सभी लोगों को साथ लेकर मोर्चा निकलना चाहिए।

-बतां दे कि पिछले कुछ महीनों से महाराष्ट्र में आरक्षण और अन्य मांगों को लेकर मराठा समाज का मूक मोर्चा अलग-अलग शहरों में निकाला जा रहा है।

-वहीं ओबीसी दलित संगठन भी अपनी मांगों को लेकर मोर्चा निकाल रहे हैं।

Courtesy: Bhaskar

 

Categories: India