मुरी एक्सप्रेस में छापामार कर तस्करी के लिये जा रही 28 युवतियां हिरासत में

मुरी एक्सप्रेस में छापामार कर तस्करी के लिये जा रही 28 युवतियां हिरासत में

फीरोजाबाद। मुरी एक्सप्रेस में तस्करी की सूचना पर जीआरपी ने छापा मारा। इस दौरान ट्रेन की एक बोगी में उड़ीसा के राउरकेला से लुधियाना जा रही 28 युवतियां और स्वयंसेवी संस्था के चार कर्मचारी मिले। जीआरपी ने युवतियों और कर्मचारियों को हिरासत में ले लिया है। पूछताछ जारी है।

राउरकेला से लुधियाना जाने वाली मुरी एक्सप्रेस को गुरुवार रात आठ बजे टूंडला स्टेशन पर एसपी जीआरपी अजय कुमार ने फोर्स के साथ घेर लिया। कुछ बोगियों की तलाशी ली। बोगी नंबर एस-3 और एस-6 के अंदर 28 युवतियां और चार युवक मिले। तस्करी की आशंका पर सभी को उतार लिया। इसके बाद हिरासत में लेते हुए युवतियों और युवकों से पूछताछ की। उनसे राउरकेला से लुधियाना का टिकट बरामद हुआ है। एसपी जीआरपी ने खुद युवतियों और चारों युवकों से अलग-अलग पूछताछ की। देर रात तक पूछताछ का सिलसिला जारी रहा। इस दौरान टूंडला पुलिस को भी रेलवे स्टेशन बुला लिया।

सूत्रों के मुताबिक एसपी जीआरपी को यह सूचना मिली थी कि उड़ीसा और बिहार की कुछ युवतियों को एक एनजीओ के कुछ कर्मचारी नौकरी दिलाने के बहाने ले जा रहे हैं। इनको दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्र में बेचने की योजना है। बताया जाता है कि एनजीओ के कर्मचारियों ने पुलिस को चकमा देने के इरादे से ही राउरकेला से लुधियाना तक का आरक्षित टिकट लिया था। हिरासत में ली गईं युवतियां भाषा और कपड़ों से उड़ीसा की प्रतीत हो रही थीं। इस संबंध में एसपी अजय कुमार ने बताया कि सूचना पर छापे की कार्रवाई की है। युवतियों और युवकों से पूछताछ की जा रही है। उसके बाद ही पूरी स्थित साफ होगी।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Crime