समाजवादी पार्टी में नहीं थम रही रार, मुलायम ने आज बुलाई बड़ी बैठक

समाजवादी पार्टी में नहीं थम रही रार, मुलायम ने आज बुलाई बड़ी बैठक

लखनऊ सत्ताधारी यादव परिवार और समाजवादी सरकार में चल रहा संग्राम आज उग्र होने के साथ धमाकेदार भी रहा। सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव की कोशिशों के बावजूद समाजवादी पार्टी और कुनबा बंटता दिखा। इस सियासी संग्राम के बीच आज मुलायम ने एक बड़ी बैठक बुलाई है। कल दिन भर की गहमागहमी के बाद मुलायम सिंह ने पत्रकारों से कहा था, “वो कुछ नहीं बोलेंगे, बोलने के लिए आप लोग सोमवार का इंतजार कीजिए।”

इसस पहले कल अपने सरकारी आवास पर बुलायी बैठक में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने चाचा व मंत्री शिवपाल सिंह यादव और उनके तीन समर्थक मंत्रियों को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया। बैठक में उन्होंने सपा सांसद अमर सिंह को यादव परिवार में आग लगाने के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए उन पर भड़ास निकाली। उधर सुबह से ही अखिलेश के पक्ष में सोशल मीडिया पर वायरल सपा महासचिव रामगोपाल यादव के पत्र को पार्टी तोडऩे का उकसावा मानकर मुलायम सिंह ने वरिष्ठ नेताओं से मंत्रणा के बाद रामगोपाल को सपा से निकालने का आदेश दिया। इस फैसले का एलान प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने किया। देखना है कि सोमवार को मुलायम की ओर से बुलाई गई बैठक में क्या होता है।

सियासी धमाकों के साथ बदलती रही रंगत

आशंका, भय, जिज्ञासा, बेचैनी, उत्साह और अफवाहें। प्रदेश के सत्ता प्रतिष्ठान के लिहाज से खास अहमियत रखने वाले राजधानी के कालिदास मार्ग और विक्रमादित्य मार्ग इलाकों का माहौल इतवार को कुछ ऐसे ही मिश्रित अनुभवों का साक्षी रहा। समाजवादी पार्टी के 25 वर्षों के इतिहास का संभवत: सबसे उथलपुथल भरा यह दिन बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के साथ रंगत बदलता रहा।

अखिलेश तुम संघर्ष करो ‘

चंद फर्लांग के दायरे में मुख्यमंत्री और सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के सरकारी आवासों, समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यालय, लोहिया और जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट भवनों को अपने आगोश में समेटे इस इलाके में सुबह नौ बजे से ही सपा की झंडिया लगीं गाडिय़ों की आमद होने लगी थी। अपने समर्थकों के साथ सपा विधायक, विधान परिषद सदस्य और सरकार के मंत्री पांच, कालिदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री के सरकारी आवास के बाहर जुटने लगे थे। सपा की युवा ब्रिगेड के ‘अखिलेश तुम संघर्ष करो ‘ के नारों से फिजां तारी थी। नारे बुलंद करतीं आवाजें जोश से लबरेज लेकिन पार्टी बंटने की आशंका से सबकी पेशानी पर आशंका के बल।

मुलायम के घर जमघट

उधर पार्टी की अब तक की सबसे अबूझ पहेली को बूझने में सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव की मदद के लिए उनके आवास पर पूर्वाह्न साढ़े दस बजे से सपा के वरिष्ठ नेताओं का पहुंचना शुरू होता है। सबसे पहले विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय और फिर एक-एक कर पार्टी महासचिव नरेश अग्रवाल, सांसद रेवती रमण सिंह व बेनी प्रसाद वर्मा और सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरनमय नंदा पहुंचे। उधर मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पर बैठक शुरू होती है। बैठक में जैसे ही शिवपाल सिंह यादव और तीन अन्य मंत्रियों की बर्खास्तगी की खबर छनकर बाहर आती है, सबके चेहरे भय मिश्रित आशंका के भाव से तन जाते हैं। पार्टी में टूट की संभावना को लेकर खुसर-फुसर शुरू हुई तो बैठक की गरमागर्म खबर पाने की बेचैनी भी साफ झलकी। बैठक का अपडेट लेने के लिए बेताब पूर्वांचल से आये कुछ समर्थक लगातार अंदर मौजूद विधायक को फोन मिला रहे हैं। आखिर में एक ने खीझकर पुरबिया अंदाज में कहा ‘विधायक जी का फोनवा बंद बा। ‘

अमर सिंह पर फायर थे

बैठक खत्म होने के बाद जैसे ही यह सार्वजनिक हुआ कि अखिलेश अंदर सपा सांसद अमर सिंह पर फायर थे, उनके समर्थकों ने अमर सिंह का पुतला फूंकने में देर नहीं की। कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति जब बैठक के बाद बाहर निकले तो उनके प्रति मुख्यमंत्री के पूर्वाग्रह और धारणा से भली भांति वाकिफ अखिलेश समर्थक उन पर स्याही फेंकने के लिए उनकी गाड़ी के पीछे दौड़ पड़े। तनाव भरे इन लम्हों में कुछ तब्दीली तब आयी जब मुख्यमंत्री से मिलने उनके सरकारी आवास पर ‘द ग्रेट खली ‘ के तौर पर मशहूर कुश्ती के चैंपियन दलीप सिंह राणा पहुंचे। अखिलेश समर्थकों ने उनकी कार को घेर लिया। खली गाड़ी की खिड़की से हाथ हिलाते रहे और उनकी कार बंगले के अंदर दाखिल हो गई। दोपहर डेढ़ बजे स्टांप व पंजीयन मंत्री रघुराज प्रताप सिंह मुख्यमंत्री के मिलने उनके सरकारी आवास गए तो बाहर उसके निहितार्थ निकाले जाने लगे।

शिवपाल-मुलायम मंत्रणा

इस दौरान विक्रमादित्य मार्ग पर अपेक्षाकृत कम हलचल रही। अलबत्ता मुलायम के आवास के सामने जरूर मीडिया कर्मी और मुट्ठी भर सपा पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे। मंत्रिमंडल से अपनी बर्खास्तगी की खबर मिलने के बाद शिवपाल भी मुलायम से मंत्रणा करने उनके आवास पहुंचे। मुलायम की कोठी के बाहर सड़क पर बेचैनी से चहलकदमी करतीं सपा अल्पसंख्यक मोर्चा की सदस्य नीलम रोमिला सिंह साथ मौजूद पार्टी कार्यकर्ताओं से कह रही थीं ‘क्या विडंबना है, नेताजी के रहते पार्टी टूट रही है। हम लोगों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। पौने एक बजे मुलायम की कोठी से नरेश अग्रवाल रुख्सत हुए। फिर बेनी प्रसाद, माता प्रसाद पांडेय, किरनमय नंदा, रेवती रमण और आखिर में शिवपाल निकले लेकिन सबके होंठ सिले हुए।

रामगोपाल निष्कासित

अब सबकी दिलचस्पी मुलायम के आवास पर हुई बैठक का नतीजा जानने में लगी थी और दोपहर सवा दो बजे जैसे ही यह खबर फैली कि सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव प्रेस कांफ्रेस करने जा रहे हैं, पार्टी कार्यकर्ताओं का हुजूम सपा प्रदेश कार्यालय पहुंचा। अपने साथ सरकार से बर्खास्त किये गए तीन और मंत्रियों-ओम प्रकाश सिंह, नारद राय व शादाब फातिमा की तिकड़ी के अलावा पार्टी प्रवक्ता अंबिका चौधरी को लेकर शिवपाल जब प्रेस कांफ्रेस के लिए पार्टी कार्यालय पहुंचे तो उनके चेहरे पर बड़ा शिकार करने का भाव था। जैसे ही उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव को सपा से छह साल से निष्कासित करने का एलान किया, लोहिया सभागार में मौजूद सपा कार्यकर्ताओं ने जोशीले अंदाज में तालियां बजाकर और नारे लगाकर इस फैसले का स्वागत किया।

सपा घमासान का चढ़ता सूरज

भोर सूरज की किरण के साथ कदम-दर-कदम बढ़ता सत्ता और सपा का आज का ताज घटनाक्रम जिसमें चार मंत्रियों पर गाज गिरी और रामगोपाल यादव भी सपा से बाहर हो गए।

– सुबह सात बजे: रामगोपाल यादव द्वारा मुंबई से सुबह छह बजे लिखा गया पत्र सार्वजनिक।

-11 बजे: मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने सरकारी आवास पर विधायकों के साथ बैठक शुरू की।

– 11.15 बजे : सपा मुखिया मुलायम सिंह के आवास पर कई बरिष्ठ नेता और शिवपाल भी पहुंचे।

– 11.30 बजे: शिवपाल सिंह यादव को मंत्री पद से बर्खास्त करने की खबर।

– 11.40 बजे: मंत्री नारद राय, ओम प्रकाश और शादाबा फातिमा की भी बर्खास्तगी की सूचना।

– 11.50 बजे: मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की बैठक खत्म।

– दोपहर 12.20 बजे : एमएलसी आशु मलिक का रामगोपाल पर हमलावर फेसबुक पोस्ट वायरल।

– 12.40 बजे: अमर सिंह के पोस्टर फाडऩे व जलाने का शुरू हुआ सिलसिला।

– 1.28 बजे: राजभवन से बर्खास्त 4 मंत्रियों की सूची जारी।

– 1.30 बजे: रघुराज प्रताप उर्फ राजा भैया अखिलेश यादव से मिलने उनके आवास पहुंचे।

– 1.40 बजे : मुलायम के आवास से शिवपाल व अन्य नेता निकले।

– 2.12 बजे: मंत्री आजम खां का बयान किसी को कैबिनेट में रखने न रखने का सीएम को विशेषाधिकार।

– 2.20 बजे : सपा कार्यालय पहुंचे शिवपाल यादव।

– 2.45 बजे: शिवपाल ने पत्रकारों से कहा कि मंत्रिमंडल में रखना न रखना मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार।

– 2.50 बजे: शिवपाल बोले, पार्टी के एक वरिष्ठ नेता सीबीआइ से बचने के लिए भाजपा से मिले।

– 3.40 बजे : शिवपाल ने दोबारा प्रेस कांफ्रेंस कर रामगोपाल सपा से निकाले जाने की घोषणा की।

– 3.50 बजे : शिवपाल ने कहा कि रामगोपाल ने पिछले दिनों तीन बार भाजपा नेताओं से मुलाकात की

– शाम 6.30 बजे: मुलायम सिंह यादव ने अपने घर पर कोर ग्रुप की बैठक बुलाई।

– 7.00 बजे : शिवपाल ने आवास पर कार्यकर्ताओं से कहा, कल सुबह नौ बजे पहुंचे पार्टी कार्यालय।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Politics

Related Articles