भारत में कारोबार आसान नहीं, डूइंग बिजनेस लिस्ट में पिछड़ा, वर्ल्ड बैंक से सरकार खफा

भारत में कारोबार आसान नहीं, डूइंग बिजनेस लिस्ट में पिछड़ा, वर्ल्ड बैंक से सरकार खफा

वॉशिंगटन.कारोबार में आसानी के मामले में भारत की रैंकिंग में कोई सुधार नहीं हुआ है। वर्ल्ड बैंक की ओर से जारी डूइंग बिजनेस इंडेक्स में भारत को 190 देशों में 130वीं पायदान पर रखा गया है। पिछले साल भारत 131वें नंबर पर था। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत ने परमिशन, कर्ज हासिल करने और दूसरे मामलो में नाममात्र का या कोई सुधार नहीं किया है। भारत सरकार ने रैंकिंग में खास सुधार नहीं होने पर निराशा जताई है। उसने कहा है कि रिपोर्ट में उन 12 अहम सुधारों पर ध्यान नहीं दिया, जिसे सरकार कर रही है। सरकार का टारगेट देश को टॉप-50 में लाना…

डूइंग बिजनेस लिस्ट में न्यू1जीलैंड पहले नंबर पर है, जबकि पाकिस्ताान 144वें नंबर पर है। यानी भारत से 14 पायदान पीछे।
इस लिस्ट में पिछले साल भी भारत 130वीं पायदान पर था। हालांकि, बाद में इसमें सुधार करके 131 कर दिया गया। इस लिहाज से भारत की पोजिशन में एक पायदान का सुधार हुआ है।
भारत सरकार ने रैंकिंग में खास सुधार नहीं होने पर निराशा जताई है। उसने कहा है कि रिपोर्ट में उन 12 अहम सुधारों पर गौर नहीं किया गया जिसे सरकार कर रही है।
सरकार का टारगेट देश को टॉप-50 में लाना है।

सरकार ने कहा- वर्ल्ड बैंक ने इन सुधारों पर गौर नहीं किया
इंडस्ट्री सेक्रेटरी रमेश अभिषेक ने कहा कि भारत ने बैंकरप्सी कोड, जीएसटी, बिल्डिंग कस्ट्रक्शन मंजूरी के लिए सिंगल विंडो सिस्टम, ऑनलाइन ईएसआईसी और ईपीएफओ– के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन जैसे 12 अहम सुधार किए हैं। इस पर वर्ल्ड बैंक ने गौर नहीं किया है।
रमेश ने बताया कि सुधारों को आगे बढ़ाने और इनके अमल पर निगाह रखने में विभागों की मदद के लिए बाहरी एजेंसी की मदद ली जाएगी।
रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया के रिकॉर्ड 137 देशों ने अहम सुधारों को अपनाया है, जिनसे स्मॉल और मीडियम साइज बिजनेस शुरू करना और चलाना आसान हुआ है।
एक साल में डेवलपिंग देशों ने 283 सुधारों में से 75 फीसदी ज्यादा सुधारों को अमल में लाया है। इनमें सब-सहारा अफ्रीका की इन सभी सभी सुधारों में एक चौथाई से ज्यादा की हिस्सेदारी है।

भारत को मिले 100 में से 55.27 अंक
इकॉनोमी के परफार्मेंस और बेहतर कामकाज के बीच अंतर बताने वाले ‘डिस्टेंस टू फ्रंटियर’ के लिए 100 प्वॉइंट हैं। इसमें भारत को इस साल 55.27 प्वॉइंट मिले जो पिछले साल 53.93 था।

अलग-अलग मामलों में भारत की रैंकिंग
1. कारोबार में आसानी में – 130
2. कारोबार शुरू करने में – 139
3. कंस्ट्रक्शन परमिशन में – 135
4. बिजली पाने में – 122
5. प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री में – 103
6. कर्ज हासिल करने में – 118
7. माइनोरिटी इन्वेस्टर्स के इंटरेस्ट का ख्याल रखने में – 145
8. टैक्स अदायगी में – 67
9. सीमापार व्यापार में – 134
10. कॉन्ट्रैक्ट्स पर अमल में – 127
11. इनसॉल्वेंसी रिजॉल्व करने में – 143

डूइंग बिजनेस लिस्ट में टॉप-10 देश
1. न्यूजीलैंड
2. सिंगापुर
3. डेनमार्क
4. हांगकांग
5. दक्षिण कोरिया
6. नॉर्वे
7. ब्रिटेन
8. अमेरिका
9. स्वीडन और
10. मैसिडोनिया

सुधारों को आगे बढ़ाने के आधार पर टॉप-10 देश
ब्रुनेई, कजाकिस्तान, केन्या, बेलारूस, इंडोनेशिया, सर्बिया, जॉर्जिया, पाकिस्तान, यूएई और बहरीन हैं।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: International

Related Articles