दिवाली पर राम गोपाल यादव के घर मिलने पहुंचे अखिलेश यादव, सपा में चल रहे विवाद पर की चर्चा

दिवाली पर राम गोपाल यादव के घर मिलने पहुंचे अखिलेश यादव, सपा में चल रहे विवाद पर की चर्चा

यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने पैतृक गांव में चाचा और राज्यसभा सांसद राम गोपाल यादव से मुलाकात करके उन्हें दिवाली की शुमकामनाएं दीं। पार्टी से निकाले जाने के बाद रामगोपाल यादव की सीएम अखिलेश से यह पहली मुलाकात थी। जहां पार्टी के नेताओं का कहना है कि सीएम अखिलेश ने राम गोपाल से दिवाली के मौके पर मुलाकात की है, वहीं सूत्रों का कहना है कि राम गोपाल ने पार्टी में चल रहे विवाद पर भी अखिलेश से चर्चा की है। यह मुलाकात एक घंटे से ज्यादा चली। सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने अपने चचेरे भाई राम गोपाल यादव को 23 अक्टूबर को पार्टी से छह साल के लिए निकाल दिया था। राम गोपाल पर आरोप लगाया गया था कि वह भाजपा के साथ मिले हुए हैं।

राम गोपाल यादव को अखिलेश यादव का नजदीकी बताया जाता है। पार्टी से निकाले जाने से कुछ घंटे पहले ही रामगोपाल यादव ने अखिलेश के समर्थन में एक पत्र लिखा था। अखिलेश ने मुलायम के एक दूसरे भाई राजपाल यादव से भी मुलाकात की और उनके निवास पर लंच भी किया। उसके बाद अखिलेश मुलायम के साले अजन सिंह के घर भी गए थे। इसके बाद अखिलेश लखनऊ के लिए निकल गए। अखिलेश शनिवार को सड़क के रास्ते सैफई पहुंचे थे। इसके साथ ही उन्होंने निर्माणधीन लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे का ट्रायल रन भी किया।

जब अखिलेश राम गोपाल के निवास पर पहुंचे थे तो राम गोपाल के भतीजे और एमएलसी अरविंद प्रताप यादव भी वहां मौजूद थे। शिवपाल यादव ने मुलायम सिंह के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में 17 सितंबर को अरविंद को पार्टी से निकाल दिया था। अरविंद ने अखिलेश और राम गोपाल की मुलाकात की पुष्टि की और कहा कि यह केवल शिष्टाचार मुलाकात थी।

जब अखिलेश यादव लखनऊ के लिए निकले थे तो उनके चाचा और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव सड़क के रास्ते सैफई आ रहे थे। अखिलेश ने शिवपाल और तीन अन्य मंत्रियों को अपने कैबिनेट से हटा दिया था। शिवपाल के नजदीकी पार्टी नेता ने बताया, ‘शिवपाल यादव ने बतौर मंत्री सरकार की ओर से मिल कर रही सारी सुविधाएं लौटा दी हैं। उन्होंने राज्य सरकार के चॉपर का इस्तेमाल नहीं किया, बल्कि सड़क के रास्ते सैफई पहुंचे।’ शिवपाल के एक नजदीकी ने बताया कि शिवपाल रामगोपाल से नहीं मिलेंगे, जबकि दोनों ही रविवार के दिन सैफई में रहेंगे। हालांकि सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव इस दौरान लखनऊ में ही रहेंगे। मुलायाम एक नवंबर को भैयादूज के दिन अपनी बहन से मिलने सैफई पहुंच सकते हैं।

Courtesy: Jansatta

Categories: Politics