NBA तक पहुंचने वाले दूसरे हिंदुस्तानी बने पलप्रीत सिंह

NBA तक पहुंचने वाले दूसरे हिंदुस्तानी बने पलप्रीत सिंह

बठिंडा, नागपुर
पंजाब के बास्केटबॉल खिलाड़ी पलप्रीत सिंह बरार हमेशा से ही नैशनल बास्केटबॉल असोसिएशन (एनबीए) में खेलना चाहते थे। अमेरिका की इस प्रफेशनल बास्केटबॉल लीग में खेलना हर खिलाड़ी का सपना होता है। लेकिन पिछले साल घुटने में लगी चोट और भारत में इस खेल की सीमित संभावनाओं से पलप्रीत निराश हो चले थे।

फिर, अक्टूबर 2015 में कुछ ऐसा हुआ जिसमें उन्हें उम्मीद की एक किरण दिखाई दी। एनबीए ने भारत में अपना पहला टैलंट सर्च कार्यक्रम शुरू किया। पलप्रीत ने अपने साथियों के कहने पर इसमें भाग लेने का फैसला किया। आखिर उनका सब्र रंग लाया और सोमवार को 6 फुट 9 इंच लंबा यह खिलाड़ी इस लीग में खेलने वाला दूसरा भारतीय बन गया। पंजाब के मुक्तसर साहिब के रहने वाले 22 वर्षीय पलप्रीत के पिता किसान हैं। सतनाम सिंह भामरा के बाद वह दूसरे भारतीय हैं जो एनबीए में रंग जमाते नजर आएंगे।

पलप्रीन ने न्यू यॉर्क से फोन पर हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा, ‘मैं नई टीम के साथ खेलने और दुनिया को अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए बहुत बेताब हूं। शुरुआत में मैं थोड़ा नर्वस था लेकिन बाद में मुझे यकीन हो गया कि कोई टीम मुझे जरूर चुन लेगी। मैं रविवार को बिलकुल भी नहीं सोया लेकिन मैं अभी पूरी तरह जागा हुआ हूं। मेरा फोकस अब और मजबूत खिलाड़ी बनने पर है।’

लॉन्ग आइलैंड ने 2016 डी-लीग ड्राफ्ट के लिए पलप्रीत का चयन किया है। यह एनबीए की आधिकारिक माइनर लीग है जिसमें 22 टीमें खेलती हैं।

पंजाबी बोलने वाले पलप्रीत को एनबीए-इंडिया ने मंच प्रदान किया जब उसने पिछले साल अक्टूबर में एसीजी वर्ल्डवाइड ग्रुप के साथ मिलकर एक राष्ट्रीय टैलंट प्रोग्राम शुरू किया।

पलप्रीत को 32 खिलाड़ियों में से चुना गया। इसके बाद भारत में ही उन्हें एनबीए के कोच ट्रेनिंग देते रहे। पिछले दो महीने से वह यूएस में अमेरिकी कोचों की निगरानी में ट्रेनिंग ले रहे हैं। लुधियाना अकादमी में उनके रूममेट रहे जयपाल मान ने बताया कि चुने जाने के बाद पलप्रीत का आंखों में आंसू थे। उनके माता-पिता फरजिंदर सिंह और सरबजीत कौर भी पलप्रीत की इस कामयाबी से फूले नहीं समा रहे।

Courtesy: NBT

Categories: Sports