रामकिशन की अंतिम यात्रा में जाएंगे केजरीवाल, राहुल गांधी भी रहेंगे मौजूद

रामकिशन की अंतिम यात्रा में जाएंगे केजरीवाल, राहुल गांधी भी रहेंगे मौजूद

नई दिल्ली वन रैंक वन पेंशन (ORP) की मांग को लेकर पूर्व सैनिक राम किशन की ख़ुदकुशी पर आज भी राजनीति गरमाने के आसार हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज पूर्व सैनिक के गांव भिवानी में जा सकते हैं।

वहीं आज टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन रामकिशन के गांव पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल को पीड़ित परिजनों से मिलने देना चाहिए था।

वहीं, राहुल के जीजा रॉबर्ट वाड्रा ने कहा है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को राम किशन के परिजनों से मिलने देना चाहिए था। पुलिस का रवैया गलत था। एक ओर अरविंद केजरीवाल पूर्व सैनिक के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने जाएंगे, वहीं, कांग्रेस आज दोपहर तीन बजे जंतर-मंतर से अमर जवान ज्योति तक कैंडल मार्च निकालेगी। यहां पर बता दें कि दिल्ली के जंतर-मंतर पर सैनिकों के लिए वन रैंक वन पेंशन के मामले पर प्रदर्शन कर रहे पूर्व फौजी रामकिशन ग्रेवाल के सुसाइड के मामले पर बुधवार को दिनभर सियासी संग्राम चला था। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के नेता इस मामले में कूद पड़े और दिनभर दिल्ली में सियासत हावी रही। पूर्व फौजी के परिवार से मिलने अस्पताल पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को मिलने नहीं दिया गया। वहीं, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल आरके पुरम थाने में रखे गए थे। रात 11:30 के बाद पुलिस ने केजरीवाल को भी रिहा कर दिया। आम आदमी पार्टी के तमाम कार्यकर्ता आरके पुरम थाने के बाहर जमा थे. रिहा होने के बाद केजरीवाल ने पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वो ओआरओपी पर पीएम ने झूठ बोला है और उन्हें सैनिकों से माफी मांगनी चाहिए। इस मसले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है- ‘मोदी जी ने झूठ बोला कि OROP लागू हो गया। मोदी जी सैनिकों से माफ़ी मांगें। आज मोदी जी के फ़र्ज़ी राष्ट्रवाद की पोल खुल गई।’ राहुल को दो बार लिया हिरासत में राहुल गांधी को दो बार हिरासत में लिया गया और अंतत देर शाम जब पुलिस ने राहुल गांधी को छोड़ा तो राहुल गांधी ने सरकार पर जमकर निशाना साधा। राहुल गांधी ने कहा कि सरकार ने ओआरओपी पर सैनिकों से वादा पूरा नहीं किया। राहुल ने कहा कि शहीद के परिवार वाले उनके मिलना चाहते थे लेकिन केंद्र सरकार के इशारे पर उन्हें मिलने नहीं दिया गया। कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राहुल गांधी को हिरासत में लेने को इमरजेंसी करार दिया। राहुल गांधी ने कहा कि वे बस सरकार से पूछना चाह रहे थे कि शहीद के परिवारवालों को क्यों हिरासत में लिया गया है? –

Courtesy: Jagran.com

Categories: India