यूपी बोर्ड ने नकल रोकने के ‌ल‌िए तैयार क‌िया पोर्टल

यूपी बोर्ड ने नकल रोकने के ‌ल‌िए तैयार क‌िया पोर्टल

यूपी बोर्ड के सभी विद्यालयों की लोकेशन अब एंड्रॉयड फोन पर उपलब्ध होगी। माध्यमिक शिक्षा परिषद के पोर्टल से जुड़कर सेलफोन की सहायता से विद्यालय तक आसानी से पहुंचा जा सकेगा। बोर्ड परीक्षा को ध्यान में रखते हुए परिषद ने नया पोर्टल तैयार किया है।

इस पोर्टल पर सभी विद्यालयों को कॉलेज का कोड व फोटोग्राफ और जियोग्राफिक कोऑर्डिनेट सिस्टम (जीआईएस) फीड करने को कहा गया है। ये फीडिंग बोर्ड परीक्षा से पहले कराने की जिम्मेदारी जिला विद्यालय निरीक्षक को सौंपी गई है।

जानकारियां फीड होने के बाद पोर्टल के माध्यम से विद्यालय की लोकेशन आसानी से पता लगाई जा सकेगी। परीक्षा को पारदर्शी बनाने के लिए पिछले साल से ऑनलाइन पद्धति से जोड़ने की कोशिशें हो रही हैं।

इस साल एक कदम बढ़ाते हुए परीक्षा आयोजन के लिए एक पोर्टल तैयार किया गया है। यह पोर्टल परिषद की वेबसाइट www.upmsp.edu.in पर उपलब्ध होगा। परीक्षा केंद्र नीति में केंद्र निर्धारण के लिए सभी सूचनाएं विशेष रूप से तैयार सॉफ्टवेयर पर फीड करने के निर्देश पहले ही जारी हो चुके हैं।

अब एक कदम बढ़ाते हुए विद्यालय के कोड, पते, फोटोग्राफ तथा जीआईएस फीड करने को भी कहा गया है। जीआईएस कोऑर्डिनेट पोर्टल पर उपलब्ध होने का सबसे बड़ा फायदा फ्लाइंग स्क्वॉयड को नकल रोकने में मिलेगा।

स्क्वॉयड को कई बार विद्यालयों की सही लोकेशन की जानकारी नहीं होती है। पोर्टल पर जीआईएस दर्ज होने पर केंद्र ढूंढने में परेशानी नहीं आएगी। जीआईएस एक प्रकार की निर्देशांक प्रणाली होती है जो किसी भी स्थान की स्थिति तीन अंकों के माध्यम से बताती है।

जीआईएस कोड प्राप्त करने के लिए स्मार्टफोन का सहारा लेना होगा। विद्यालय कैंपस में फोन पर ‘स्कूल ऑन मैप मार्ग’ एप डाउनलोड करना होगा। एप डाउनलोड करने के बाद जैसे ही विद्यालय में यह एप खोला जाएगा जीआईएस मिल जाएगा। जिसे पोर्टल पर फीड करना होगा।

Courtesy: amarujala

Categories: Regional