स्मॉग से घुटा दिल्ली का दम, ‘न्यू डेलही’ नहीं ‘न्यू डेडली’ कहिए

स्मॉग से घुटा दिल्ली का दम, ‘न्यू डेलही’ नहीं ‘न्यू डेडली’ कहिए

जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। दिल्ली देश की राजधानी है। यहां संसद से लेकर राष्ट्रपति भवन तक है। प्रधानमंत्री कार्यालय है। यहां पर दो-दो सरकारें हैं। इन सबके बावजूद हफ्ते भर से लोगों को सांस लेने के लिए साफ हवा मयस्सर नहीं है। स्मॉग से शहर का वायु प्रदूषण जिस खतरनाक स्तर पर चला गया है, उससे न्यू डेलही तेजी से जानलेवा यानी न्यू डेडली में तब्दील हो रही है।

ऐसा ही हाल राजधानी से लगते अन्य राज्यों का है। पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कई जिले इसकी चपेट में हैं। स्मॉग ने सड़कों पर वाहनों की रफ्तार को भी थाम रखा है। रविवार को दृश्यता कम होने से हुए वाहन हादसों में इन राज्यों में 16 लोगों की मौत हो गई। दिल्ली हवाईअड्डे पर दृश्यता बाधित होने से दर्जनों उड़ानें प्रभावित हुईं। इस बीच, मौसम एजेंसी स्काईमेट ने कहा है कि तेज हवाएं चलने से मंगलवार से स्थिति में सुधार हो सकता है।

राजधानी दिल्ली में लगातार सातवें दिन स्मॉग का कहर रहा। रविवार को हवा की गुणवत्ता इस मौसम में सबसे खराब रही। घर से निकलने पर लोग आंखों में जलन की शिकायत करते दिखे। इसके चलते दमा और श्वास के रोगियों को ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। विशेषज्ञ इस स्थिति की तुलना 1952 के लंदन के भयानक स्मॉग से कर रहे हैं, जब लगभग चार हजार लोग अकाल मृत्यु के शिकार हो गए थे।

स्मॉग में सात दिन बिताने के बाद अब सरकार की नींद खुली है। रविवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने घर पर एक मीटिंग में कुछ अहम फैसले लिए। केजरीवाल ने लोगों को बहुत जरूरी होने पर ही घरों से बाहर निकलने की सलाह दी है। बैठक के बाद उन्होंने कहा कि जो लोग बिजली के मीटर लेना चाहते हैं उन्हें हाथों हाथ मीटर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि दिल्ली में पत्तों को जलाने पर पूरी तरह रोक है। इसके लिए एक एप तैयार हो रहा है, जिसके जरिए अधिकारियों को सूचना दी जा सकती है कि इस इलाके में पत्तों को जलाया जा रहा है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वह निजी वाहनों की जगह सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करें।

रविवार को हवा का हाल
पीएम 2.5 588 माइक्रोन
पीएम 10 844 माइक्रोन
सोमवार को यह होगा हाल
पीएम 2.5 613 माइक्रोन
पीएम 10 860 माइक्रोन

(अति सूक्ष्म कण पीएम 10 के लिए निर्धारित मानक 100 माइक्रोन और पीएम 2.5 के लिए 60 माइक्रोन है।)

सरकार के आपात कदम
-दिल्ली सरकार ने सोमवार से तीन दिन तक सभी सरकारी और निजी स्कूल बंद करने का आदेश दिया है।
-सरकार ने पांच दिनों तक के लिए डीजल वाले जेनरेटर सेट चलाने पर रोक लगा दी है।
-बदरपुर पावर प्लांट से राख उठाने पर 10 दिनों तक रोक। 10 दिन के प्लांट भी बंद।
-पांच दिनों तक दिल्ली में हर तरह के निर्माण कार्य और तोडफ़ोड़ पर रोक लगा दी गई है।
-हेलीकाप्टर से कृत्रिम बारिश कराने पर विचार किया जा रहा है। कूड़ा जलाने पर सख्ती होगी।
-सरकार ऑड-इवेन फार्मूला लागू कर सकती है। इस पर गंभीरता से विचार चल रहा है।

क्या है स्मॉग
‘स्मॉग’ शब्द अंग्रेजी के दो शब्दों ‘स्मोक’ और ‘फॉग’ से मिलकर बना है। यह वायु प्रदूषण की एक अवस्था है। बीसवीं सदी के शुरू से धुएं और कुहासे की मिश्रित अवस्था के लिए इस शब्द का इस्तेमाल हो रहा है। गाडिय़ों और औद्योगिक कारखानों से निकले धुएं में उपस्थित राख, गंधक और अन्य हानिकारक रसायन जब कुहासे के संपर्क में आते हैं तब ‘स्मॉग’ की स्थिति बनती है।

Courtesy: Jagran.com

Categories: India

Related Articles