बुलंदशहर गैंगरेप केस: SC ने आजम खान से 17 नवंबर तक मांगा जवाब, मीडिया ऑर्गनाइजेशन्‍स को निर्देश- मंत्री के बयान की बाइट भेजें

बुलंदशहर गैंगरेप केस: SC ने आजम खान से 17 नवंबर तक मांगा जवाब, मीडिया ऑर्गनाइजेशन्‍स को निर्देश- मंत्री के बयान की बाइट भेजें

बुलंदशहर. बुलंदशहर गैंगरेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने 17 नवंबर तक आजम खान से जवाब फाइल करने के लिए कहा है। इसके साथ ही कोर्ट ने मीडिया संस्‍थानों को भी निर्देश दिया है कि वे आजम खान की पीसी या बाइट भेजें, जिसमें उन्‍होंने गैंगरेप केस पर बयान दिया था। बता दें, कैबिनेट मंत्री ने कहा था- ‘हमें इस तरह से भी देखना चाहिए कि कहीं कोई विपक्षी विचारधारा जो सत्ता में आना चाहती है, सरकार को बदनाम करने के लिए कोई कुकर्म तो नहीं कर रही? कुछ भी हो सकता है।’ कोर्ट ने सीबीआई से आजम को नोटिस भेजने को कहा था…

– बता दें, सितंबर महीने में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से आजम खान के खिलाफ उनके द्वारा दिए गए बयान को लेकर नोटिस भेजने को कहा था।
– कोर्ट ने सीबीआई से कहा था कि वो आजम के खिलाफ नोटिस जारी कर उनसे कोर्ट में पेश होने के लिए कहे।
– दरअसल, इसके पहले भी कोर्ट ने मंत्री से पेश होने के लिए कहा था, लेकिन वे पेश नहीं हुए थे।

क्‍या था मामला?
– NH-91 के पास 29 जुलाई की रात मां और उसकी 14 साल की नाबालिग बेटी से गैंगरेप किया गया।
– यूपी सरकार ने मुआवजे का एलान कि‍या लेकि‍न वो अधूरा रहा।
– वहीं आजम खान ने इस पर वि‍वादास्‍पद बयान दि‍या था। मामले में पीड़ि‍ता के पि‍ता ने सुप्रीम कोर्ट से न्‍याय की मांग की थी।

क्या थी पीड़ि‍ता के पि‍ता की मांग?
– यूपी सरकार ने फ्लैट देने की घोषणा की थी, वह नहीं मि‍ला है। उसे दिलवाया जाए।
– पीड़ि‍ता की पढ़ाई-लि‍खाई पर होने वाला खर्च सरकार दे।
– पीड़ि‍ता के बालि‍ग होने के बाद उसे सरकारी नौकरी दी जाए।
– आजम खान ने वि‍वादास्‍पद बयान दि‍या था, उन पर कार्रवाई की जाए।

आजम खान ने क्‍या कहा था?
– ‘हमें इस तरह से भी देखना चाहिए कि कहीं कोई विपक्षी विचारधारा जो सत्ता में आना चाहती है, सरकार को बदनाम करने के लिए कोई कुकर्म तो नहीं कर रही? कुछ भी हो सकता है।’
– बाद में इस पर वि‍वाद होने पर उन्‍होंने सफाई देते हुए कहा था, ‘मैंने विरोधियों की साजिश’ नहीं कहा था (गैंगरेप को)। मैंने कहा था, यूपी में चुनाव नजदीक हैं और इस तरह की बहुत सी घटनाएं हो रही हैं। इसलिए इनकी जांच की जरूरत है। मैं निजी रूप से पीड़ित परिवार के साथ हूं।’
– ”जब सत्ता के लिए बेगुनाहों की जान ली जा सकती है, सत्ता के लिए गुजरात हो सकता है, कांग्रेस के जमाने में 42 हजार दंगे हो सकते हैं, वोट लेने के लिए मुजफ्फरनगर, श्यामली, कैराना हो सकता है। वोट के लिए इतना गिर सकते हैं। बापू को आरएसएस की विचारधारा ने ही मार दिया।”
– ”बात इतनी नहीं है कि तीन बलात्कार हो गए। इसके पीछे का सच क्या है, वो मालूम हो जाए तो अच्छा रहे। चुनाव करीब हैं। समाजवादी पार्टी को बदनाम करने का इसके अलावा कोई रास्ता विपक्ष के पास नहीं है। मुख्यमंत्री पर कोई एक आरोप हो तो बताइए।”
आजम के बयान पर हुआ था विवाद
– यूपी में गैंगरेप होने के सवाल पर आजम खान के बयान से विवाद खड़ा हो गया था।
– यूपी बीजेपी का एक डेलिगेशन गाजियाबाद में पीड़ि‍त परिवार से मिलने पहुंचा था।
– यूपी बीजेपी चीफ केशव प्रसाद मौर्या ने पूरे मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की थी। उन्‍होंने कहा था, ”आजम ऐसे मंत्री हैं जो कुछ भी बयान दे रहे हैं। सपा को चहिए वह ऐसे लोगों को समझाए जो कभी भी कुछ भी बोल देते हैं।

गैंगरेप में यूपी पहले नंबर पर
– NCRB (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) की रिपोर्ट के मुताबिक, गैंगरेप के मामले यूपी में सबसे ज्यादा हैं। यहां 2014 में सबसे ज्यादा 762 गैंगरेप हुए थे।
– वहीं, रेप के मामले में यूपी देश में तीसरे नंबर पर है। 2014 में यहां रेप के 3467 केस सामने आए थे।
– 2014 में देश में रेप के 36 हजार 735 केस सामने आए थे। इनमें मध्य प्रदेश पहले (5076 केस) और राजस्थान (3759 केस) दूसरे नंबर पर है।

 

Categories: Crime

Related Articles