टोल से गुजरते हैं तो ये जरूरी खबर आपके लिए है

टोल से गुजरते हैं तो ये जरूरी खबर आपके लिए है

नई दिल्ली: 100 और हजार रुपए का नोट लेकर अगर आप किसी टोल बूथ से गुजर रहे हैं तो परेशान मत होइएगा. सरकार ने इसका भी इंतजाम कर दिया है. केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ऐलान कर दिया है कि 11 नवंबर रात 12 बजे तक देश के किसी टोल बूथ पर पैसा नहीं लिया जाएगा.

टोल बूथ पर चलेंगे क्या नोट ?

यूपी के कुशीनगर में NH 28 के टोलबूथ पर पांच सौ-हजार का नोट ना लेने से लंबी लाइन लग गई. लोग घंटों तक जाम में फंसे रहे. इसका समाधान निकाला गया है. गडकरी ने ऐलान किया है कि 11 नवंबर रात 12 बजे तक देश के किसी टोल बूथ पर पैसा नहीं लिया जाएगा. लेकिन 11 नवंबर के बाद आपको ध्यान रखना होगा कि टोल बूथ से गुजरने पर आप खुले पैसे रखें.

1000-500 रुपये के नोट बंद होने के बाद लोगों में घबराहट है कि उनके पास रखे नोटों का क्या होगा. जो लोग बैंक में अपने पास रखे नोट बदलने जाएंगे उनके साथ कोई बेवजह पूछताछ तो नहीं होगी. वित्त मंत्री ने लोगों की परेशानियों को दूर करने के लिए साफ बता दिया है कि सिर्फ काले धन वाले लोगों के अलावा और किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है.

सूत्रों के मुताबिक वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साफ कर दिया है कि सिर्फ उन्हीं लोगों को रेवेन्यू डिपार्टमेंट दबोचेगा जिनके डिपॉजिट करोड़ों में होंगे. राजस्व विभाग उन लोगों पर नजर रखेगा जिन्होंनें करोड़ो का छुपाकर घरों में रखा हुआ था और इस पैसे के ऊपर वो टैक्स नहीं दे रहे थे. इसके अलावा ये फैसला तभी ले लिया गया था जब रघुराम राजन आरबीआई के गवर्नर थे यानी इस फैसले की उन्हें पूरी जानकारी थी.

वित्त मंत्री का कहना है कि 1000 और 500 रुपये के नोट इकोनॉमी में स्थिर हो गए थे और जाली नोटों की संख्या बेतहाशा बढ़ गई थी. देश की इकोनॉमी की 80 फीसदी करेंसी 500 और 1000 रुपये के नोटों में थी जिन्हें बंद करने के बाद 2 दिन तक शायद थोड़ी दिक्कत हो सकती है. हालांकि नए नोट आते ही ये परेशानी काफी हद तक दूर होने की उम्मीद है.

इस फैसले से बैंकों के पास मौजूदा कैश बढ़ जाएगा और बैंकिंग सिस्टम में लिक्विडिटी की दिक्कत नहीं आएगी. इसके बाद अर्थव्यवस्था के आधिकारिक साइज में इजाफा होगा और इसके साथ ही जीडीपी में भी इजाफा होगा.

अरुण जेटली ने साफ कर दिया है कि ये स्कीम किसी भी तरह से ब्लैकमनी वालों के लिए इम्यूनिटी स्कीम के तौर पर काम नहीं करेगी. यानी आपके पैसे पर किसी तरह की टैक्स की रियायत नहीं मिलेगी. ब्लैकमनी रखने वालों ने अपने धन को बचाने का आखिरी मौका 30 सितंबर 2016 को खो दिया है.

एफएम ने साफ कर दिया है कि डिमॉनिटाइजेशन स्कीम के बाद जो भी टैक्स नियमों का उल्लंघन करता पाया जाएगा उसपर मौजूदा टैक्स नियमों के मुताबिक टैक्स लगाया जाएगा.

Courtesy: ABP

Categories: India