पीएम मोदी को लगा तगड़ा झटका, काला धन वालों ने खोज ली काट

पीएम मोदी को लगा तगड़ा झटका, काला धन वालों ने खोज ली काट

पीएम नरेन्द्र मोदी के काला धन निकलाने की योजना को तगड़ा झटका लग रहा है। कालाधन रखने वालों ने इसकी काट निकाल ली है। बुधवार को काशी की बात की जाये तो करोड़ों रुपये का निवेश सोना खरीदने में हो रहा है। आचश्र्य की बात है कि नम्बर एक के पैसा से सोने खरीदने का भाव अलग है तो नम्बर दो के पैसे से सोना खरीदने का भाव अधिक रखा गया है।

सोना मार्केट की बात की जाये तो काशी में 8 नवम्बर को प्रति दस ग्राम 29 हजार 800 रुपये थे जो बुधवार को 33 हजार से अधिक हो गया है। सोने का यह दाम नम्बर एक के पैसा का था जबकि नम्बर दो के पैसा की बात की जाये तो प्रति ग्राम 40 हजार से अधिक पहुंच गया है। नौकरशाह से लेकर नेताओं ने सबसे अधिक खरीद की है। दुकान पर लगन की खरीदारी करने वालों से अलग डीलिंग हो रही है जबकि काला धन वालों से अलग जगह खरीदारी हो रही है।

दो दिन से जारी है खरीदारी

काशी में पूर्वांचल के कई जिलों से सोने व गहनों की खरीदारी करने के लिए व्यापारी आते हैं। पीएम मोदी ने जैसे ही 500 व 1000 रुपये के नोट बंद किये है तभी सोने व जेवराहत खरीदने वालों की भीड़ तीन गुना से अधिक हो चुकी है। पीएम मोदी की योजना में पलीता लगाते हुए काला धन रखने वालों ने जमकर खरीदारी शुरू कर दी है। बाजार का यही हाल रहा तो सोने नया रिकॉर्ड बना सकता है और इसको पकडऩा भी कठिन होगा।

नोट के बदले रखेंगे सोना

कालाधन रखने वालों की नयी चाल से पीएम मोदी की योजना को तगड़ा झटका लगा है। 500 व 1000 के नोट रखने की वजह यह लोग सोना खरीदना पसंद कर रहे हैं। खास बात है कि सोने की खरीदारी हो जाने के बाद उनका पैसा नम्बर एक का हो जायेगा। बाद में जब स्थिति सामान्य होगी तो सोने को बेच कर नगद लेना आसान होगा।

हजारों करोड़ों का हो रहा निवेश

दो दिन में ही पूर्वांचल में हजारों करोड़ निवेश की बात सामने आ रही है। नाम न छापने की शर्त पर सुनार ने बताया कि हम ग्राहकों से स्पष्ट कर लेते हैं कि उनका पैसा नम्बर एक या दो का है। इसके बाद ही दाम तय होता है। जिस तरह से नम्बर दो का पैसा मार्केट में निकल रहा है उससे लगता है कि एक दिन में ही सोने की कीमत 50 हजार प्रति ग्राम को पार कर जायेगी। फिलहाल पीएम मोदी की नयी नीति से सोने का व्यापार करने वालों के अच्छे दिन आ गये हैं।

Courtesy: Patrika.com

Categories: India

Related Articles