गुलाम नबी आजाद बोले- उरी हमले में उतने लोग नहीं मारे गए, जितने सरकार की गलत नीति से मर गए

गुलाम नबी आजाद बोले- उरी हमले में उतने लोग नहीं मारे गए, जितने सरकार की गलत नीति से मर गए

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाब नबी आजाद ने राज्यसभा में नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। गुलाब नबी आजाद ने कहा, ‘सरकार की गलत नीति से जितने लोग मर गए हैं, उससे आधे तो पाकिस्तानी आतंकियों ने उरी हमले में नहीं मारे थे। जब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्यसभा में चर्चा के लिए नहीं आएंगे, हम लोग सदन की कार्यवाही को नहीं चलने देंगे।’ आजाद ने कहा कि नोटबंदी के फैसले की वजह से 40 लोग मारे गए हैं। बता दें, 18 सितंबर को कश्मीर के उरी सेक्टर में आतंकियों ने एक सेना कैम्प पर हमला कर दिया था। इसमें भारतीय सेना के कुल 20 जवान शहीद हो गए थे। भाजपा के वरिष्ठ नेता वैंकया नायडू ने कहा कि विपक्ष के नेता इस तरह के बयान देकर और इसकी तुलना पाकिस्तानी आतंकी हमलों से करके राष्ट्र का अपमान कर रहे हैं। उन्हें माफी मांगनी चाहिए।

वहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी इस फैसले को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। इसके साथ ही दोनों ने मांग की है कि सरकार तीन दिन के भीतर इस फैसले को वापस ले। अरविंद केजरीवाल ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ‘देशभक्ति की आड़ में घोटाले हो रहे हैं। लेकिन ये घोटाले होने नहीं देंगे, देश के लिए जान की बाजी लगाने को तैयार हैं। मोदी सरकार यह आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला कर रही है। 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करके 2000 रुपए लॉन्च करके कैसे भ्रष्टाचार खत्म करेंगे। पीएम मोदी ने विजय माल्या को रात में हवाई जहाज में बैठाकर लंदन भेज दिया। माल्या ने बैंकों के करोड़ो रुपए खा लिए हैं। सरकार ने भी उनके अरबों रुपए का लोन माफ कर दिया है। लेकिन यहां पर लोग लाइनों में खड़े हैं।’ वहीं ममता बनर्जी ने कहा, ‘ऐसा संकट तो आपातकाल के दौरान भी नहीं देखा था। यह फैसला भारत को 100 साल पीछे ले जा सकता है। आगे को छोड़ो, देश को पीछे कर दिया। अगर आपमें हिम्मत है तो हमें जेल भेजो और गोली मारो। लेकिन हम हमारी लड़ाई जारी रखेंगे। हम गरीब लोगों को भूखा नहीं मरने देंगे।’

Demonetisation, Arvind Kejriwal, Mamata Banerjee, Delhi Rally, Kejriwal Mamata rally, Narendra Modi, bank, ATM, Rs 500 and 1000 Notes, India, Jansattaरैली के लिए जाते ममता बनर्जी व अरविंद केजरीवाल। (Source: Twitter)

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था। इसके साथ ही लोगों को अपने पुराने नोट चेंज करने के लिए 31 दिसंबर का समय दिया था। साथ ही में ही बैंक या एटीएम से पैसे निकालने के लिए एक सीमा तय की गई थी। पीएम के ऐलान के बाद से ही बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी लाइनें देखने को मिल रही हैं। इस दौरान कईयों की मौत भी हो गई। एटीएम से एक दिन में एक व्यक्ति केवल 2400 रुपए निकाल सकता है, वहीं बैंक से वह सप्ताह में एक बार में 24 हजार रुपए में निकाल सकते हैं।

Courtesy:Jansatta

Categories: Politics

Related Articles